Covid-19 Update

2,18,523
मामले (हिमाचल)
2,13,124
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,694,940
मामले (भारत)
232,779,878
मामले (दुनिया)

हिमाचल में यहां दरकने लगा पहाड़, जमीन धंसने से कई घर क्षतिग्रस्त; दर्जनों घरों पर मंडराया खतरा

प्रशासन ने घर खाली करने के दिए आदेश, दरारों पर तिरपाल बिछाकर पानी रोकने का प्रयास

हिमाचल में यहां दरकने लगा पहाड़, जमीन धंसने से कई घर क्षतिग्रस्त; दर्जनों घरों पर मंडराया खतरा

- Advertisement -

मंडी। हिमाचल में भारी बारिश के बाद प्रदेश के पहाड़ (Hill) दरकने लगे हैं। ऐसा ही एक पहाड़ मंडी (Mandi) जिला के बल्ह (Balh) उपमंडल के तहत आने वाले कोठीगैहरी गांव में है। यह पहाड़ी दरकने लगी है। जिस कारण एक दर्जन घरों पर खतरा मंडराने लगा है। पहाड़ी दरकने के कारण गांव की विद्या देवी, तारा चंद, संजू, बल्लू राम, बिट्टू राम, धर्मी देवी और पंकज कुमार के घर इसकी जद्द में आ गए हैं। अभी विद्या देवी का रसोईघर और शौचालय जबकि संजू की गौशाला क्षतिग्रस्त (Damaged) हो गई है। विद्या देवी अब घर के बरामदे में रसोईघर चला रही है। विद्या देवी ने बताया कि शुक्रवार की रात को जब जोरदार बारिश हो रही थी तो उसकी रसोई की जमीन पर दरारें आने लग गई। देखते ही देखते दरारें बढ़ गई। लोगों ने रात जागकर बीताई और अगली सुबह देखा तो जमीन एक फीट से भी अधिक धंस (Ground Had Sunk) गई थी। अभी भी यह परिवार खतरे के साए में रहने को मजबूर है।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: डंगा धंसने से खाई में लुढ़की जेसीबी, ऑपरेटर की गई जान, एक अन्य गंभीर जख्मी

वहीं, संजू की गौशाला भी इसकी जद में आ गई है। मजबूरन पशुओं को दूसरी जगह शिफ्ट करना पड़ा है। इसके साथ ही यहां का एक पुश्तैनी गुरूद्वारा भी बूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। प्रभावित संजू और चेतराम ने बताया कि अगर यह जमीन (Land) पूरी तरह से धंस जाती है तो करीब एक दर्जन घर इसकी चपेट में आ जाएंगे, जिनका शायद नामों निशां भी ना बचे। इन्होंने प्रशासन और सरकार से प्रभावितों को उचित मुआवजा अदा करने और पुश्तैनी गुरूद्वारे को भी उचित मुआवजा अदा करने की गुहार लगाई है।

 

 

 

वहीं जब इस बारे में डीसी मंडी (DC Mandi) अरिंदम चौधरी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि पिछले कल पटवारी और स्थानीय प्रधान ने मौके पर जाकर सारी जानकारी हासिल कर ली है। लोगों को घर खाली करने के लिए कह दिया गया है और उनके रहने की वैकल्पिक व्यवस्था भी कर दी गई है। जहां खाई बनी है वहां पर तिरपाल बिछाने का प्रयास किया जा रहा है ताकि बारिश के पानी से होने वाले नुकसान को रोका जा सके।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है