Covid-19 Update

2,63,914
मामले (हिमाचल)
2, 48, 802
मरीज ठीक हुए
3944*
मौत
40,085,116
मामले (भारत)
360,446,358
मामले (दुनिया)

दुनिया का अनोखा झरना, हर सेकेंड निकलता है 300 लीटर पानी, वैज्ञानिकों के लिए बना रहस्य

जो भी रहस्य ढूंढने गया, वापस नहीं लौटा

दुनिया का अनोखा झरना, हर सेकेंड निकलता है 300 लीटर पानी, वैज्ञानिकों के लिए बना रहस्य

- Advertisement -

आज के समय में विज्ञान ने काफी तरक्की कर ली है, लेकिन फिर भी दुनिया में कई चीजें ऐसी हैं जिसका रहस्य वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए हैं। इसी कड़ी में आज हम आपको ऐसे ही एक रहस्यों से भरे झरने के बारे बताएंगे। ये झरना फॉसे डियोनी स्प्रिंग के नाम से जाना जाता है। आज तक कोई ये पता नहीं लगा पाया है कि इस झरने का पानी कहां से आता है।

इस बात पर विश्वास करना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन यह सच है। हम बात कर रहे हैं फ्रांस के बरगंडी (Burgundy) राज्य में बहने वाली फॉसे डियोनी स्प्रिंग (Fosse Dionne spring) के बारे में। वैज्ञानिकों ने इस झरने से निकल रहे पानी के सोर्स के बारे में कई बार पता लगाने की कोशिश की है, लेकिन आज तक इस रहस्य को सुलझा नहीं पाए हैं।

यह भी पढ़ें-इस जहाज में आता है हजार ट्रकों के जितना सामान, ऐसे करता है काम

झरने के सोर्स का नहीं पता

स्थानीय लोग इस झरने तिलिस्मी को कुदरत का चमत्कार मानते हैं। इस झरने से धरती के अंदर से प्रति सेकंड 300 लीटर पानी आता रहता है, जबकि बरसात के मौसम में यहां से प्रति सेकंड 3000 लीटर से ज्यादा पानी निकलने लगता है। इस झरने में धरती के नीचे से लगातार पानी आता रहता है। हैरानी की बात यह है कि इस झरने में पानी की कभी कमी नहीं होती है।

सदियों से बह रहा झरना

यह झरना टोनेरे नाम के शहर में स्थित है। यह रहस्मयी झरना सदियों से बह रहा है। इस पानी को रोमन लोग पीने के लिए इस्तेमाल करते थे, लेकिन 17वीं सदी में लोग इससे नहाते थे। वहीं, जब 18वीं सदी में इस झरने की थाह पता लगाने की कोशिश की गई तो पता चला कि गोल हौज की तहलटी नहीं है।

रहस्य पता लगाने में हुई मौत

फॉसे डियोनी स्प्रिंग के जलस्रोत को ढूंढने की कोशिश 17वीं सदी से ही हो रही है। इस रहस्य का पता लगाने में कई लोगों की मौत हो गई। कहा जाता है कि इस झरने में दूसरी दुनिया से पानी आता है और वो जगह सांपों का घर है। साल 1974 दो गोताखोरों ने इसका स्रोत ढूंढना चाहा, तो वे इसमें खोकर मर गए। वहीं, साल 1996 में जब फिर वैज्ञानिकों ने इसकी थाह पता करने की कोशिश की तो उस दौरान भी एक गोताखोर की मौत हो गई। हालांकि, कुछ साल पहले झरने की थाह खोजने निकला एक वैज्ञानिक आधे रास्ते से ही लौट आया था।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है