बंगालियों पर टिप्पणी कर बुरे फंसे परेश रावल, मांगनी पड़ी माफी

मछली पकाने वाले बयान ने पकड़ा तूल, लोगों ने दिया हेट स्पीच करार

बंगालियों पर टिप्पणी कर बुरे फंसे परेश रावल, मांगनी पड़ी माफी

- Advertisement -

बॉलीवुड एक्टर परेश रावल (Prash Rawal) गुजरात में बीजेपी (BJP) के लिए प्रचार कर रहे हैं। मगर वह वह विवादों में फंस गए हैं। उन्होंने कहा था कि लोग महंगाई को बर्दाश्त कर लेंगे लेकिन पड़ोस के बांग्लादेशियों और रोहिग्याओं को नहीं। इस बयान पर उनकी काफी आलोचना हुई है। इसके बाद उन्होंने माफी मांगी है। परेश रावल ने मंगलवार को वलसाड़ में कहा था कि गैस सिलेंडर महंगे हैं मगर कीमतें कम हो जाएंगी। लोगों को रोजगार भी मिलेगा लेकिन तब क्या होगा जब रोहिंग्या शरणार्थी और बांग्‍लादेशी, दिल्‍ली की तरह आपके आसपास रहना शुरू कर देंगे।

यह भी पढ़ें- 12 साल की गुमनामी के बाद फरदीन खान फिर कर रहे कमबैक

गैस सिलेंडर (Gas Cylinder) का आप क्‍या करेंगे। बंगालियों के लिए मछली (Fish) पकाएंगे। गुजरात में पहले चरण के लिए गुरुवार को मतदान हुआ है। उन्होंने कहा था कि गुजरात के लोग महंगाई बर्दाश्त कर सकते हैं लेकिन यह नहीं जिस तरह से वे अपशब्द बोलते हैं। उनमें से एक शख्स को मुंह पर डायपर पहनने की जरूरत है। ऐसे में उनका सीधा इशारा अरविंद केजरीवाल की तरफ था। उन्होंने कहा कि वह यहां प्राइवेट प्लेन (Private Plane) से आते हैं और दिखावे के लिए रिक्शा पर बैठते हैं। हमने पूरी उम्र एक्टिंग (Acting) में गुजार दी, लेकिन ऐसा नौटंकी वाला नहीं देखा। उसने शाहीन बाग में भी बिरयानी परोसी थी। परेश रावल के इस बयान को जहां कई लोगों ने बंगालियों के खिलाफ हेट स्पीच करार दिया वहीं अन्‍य से इसे रोहिंग्या और बांग्लादेशियों के खिलाफ माना। इस मसले पर कई तीखे ट्वीट्स के बाद परेश रावल ने सुबह माफी वाला पोस्‍ट करते हुए दावा किया कि उनका आशय अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों से था। उन्होंने अपने पोस्ट में लिखे बेशक मछली मुद्दा नहीं है क्योंकि गुजराती भी मछली पकाते और खाते हैं लेकिन बंगाली को लेकर मैं स्पष्ट करना चाहता हं कि मेरा आशय अवैध बांग्लादेशियों और रोहिंग्‍याओं से था। इसके बावजूद यदि मैंने आपकी भावनाओं को आहत किया है तो मैं माफी मांगता हूं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है