Covid-19 Update

2,16,430
मामले (हिमाचल)
2,11,215
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,380,438
मामले (भारत)
227,512,079
मामले (दुनिया)

कोरोना काल में 13 % कम हुई आईआईटी मंडी की प्लेसमेंट, पास आउट होने वालों की दर बढ़ी

आरटीआई में हुआ खुलासा, सिर्फ बीटेक में औसतन रही प्लेसमेंट

कोरोना काल में 13 % कम हुई आईआईटी मंडी की प्लेसमेंट, पास आउट होने वालों की दर बढ़ी

- Advertisement -

मंडी। कोरोना काल में आईआईटी मंडी( IIT Mandi) की प्लेसमेंट में 13 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। संस्थान के बीटेक कोर्स में गत वर्ष के मुकाबले इस वर्ष प्लेसमेंट में 13 फीसदी  की गिरावट देखने को मिली है। इसके अलावा पोस्ट ग्रेजुएट, प्रोजेक्ट एवं पीएचडी जैसे कोर्सेज में पास आउट होने वाले  छात्रों की संख्या में काफी इजाफा देखने को मिला है। सामाजिक कार्यकर्ता सुजीत स्वामी द्वारा आरटीआई ( RTI)के तहत यह जानकारी जुटाई गई है। सुजीत स्वामी ने सवाल किया था कि वर्ष 2018-19, 2019-20 एवं 2020-21 में बीटेक, एमटेक, एमएस, एमएससी ,पीएचडी आदि जैसे कोर्सिज में कितने विद्यार्थी पास आउट हुए और उनमे से कितनो का प्लेसमेंट हुआ। इसी के साथ उच्चतम पैकेज एवं निम्नतम पैकेज कितना रहा। जिसका उत्तर देते हुए बताया गया कि बीटेक, एमटेक, एमएस, एमएससी, एमए, पीएचडी कोर्स को मिलाकर वर्ष 2018-19, 2019-20 एवं 2020-21 में क्रमशः 276, 383 एवं 457 विद्यार्थी पास आउट हुए और उनमे से 104, 141 एवं 166 विद्यार्थियों का प्लेसमेंट हुआ जो की कुल पास आउट विद्यार्थीयो का 38, 37 और 36 प्रतिशत है।

यह भी पढ़ें: सीएम ने प्रवासी भारतीयों को हिमाचल में निवेश के लिए किया आमंत्रित

कोरोना काल में जहां संस्थान लगभग बंद थे एवं पढ़ाई का कार्य ऑनलाइन चल रहा है, वहीं छात्रों के पास आउट के नंबर की तरफ गौर करें तो, इसका उल्टा असर देखने को मिला। पोस्ट ग्रेजुएट एवं पीएचडी में कोरोना काल में पास आउट होने वाले  छात्रों की संख्या में उछाल आया है। बीटेक कोर्स में पास आउट विद्यार्थियों की संख्या में तो कोई अंतर देखने को नहीं मिला लेकिन एमटेक एवं पीएचडी में तो यह संख्या लगभग दोगुनी हो गयी है। वर्ष 2018-19, 2019-20 एवं 2020-21 में एमटेक कोर्स में क्रमशः 60, 97 एवं 146 विद्यार्थी पास आउट हुए जबकि पीएचडी में 22, 39 एवं 40  शोधार्थियो ने अपनी रिसर्च पूरी की। इसके अलावा एमएससी कोर्स में 54, 77 एवं 99 विद्यार्थी तो एमएस में 10, 11 एवं 15 विद्यार्थी पास आउट हुए।

प्लेसमेंट सेल का शुल्क हो माफ़ एवं बीटेक के अलावा अन्य कोर्स में भी बढ़ाया जाये प्लेसमेंट

सुजीत स्वामी का कहना है कि संस्थान में प्लेसमेंट पाने के लिए विद्यार्थियों को एक नियत शुल्क देकर प्लेसमेंट सेल में पंजीकृत होना पड़ता है, उसमें पंजीकृत होने के लिए भी विभिन्न शर्त एवं नियम होते हैं। कई विद्यार्थी इसी शुल्क एवं शर्तों  की वजह से पंजीकृत नहीं हो पाते और जो विद्यार्थी पंजीकृत नहीं हो पाते उनको प्लेसमेंट में नहीं बैठाया जाता तथा संस्थान सेल में पंजीकृत विद्यार्थियों में से चयनित विद्यार्थियों का ही प्रतिशत बताकर प्लेसमेंट के डाटा को ज्यादा दर्शाती है। संस्थान में दाखिला लेने वाले प्रत्येक विद्यार्थी को बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के प्लेसमेंट सेल में पंजीकृत करना चाहिए। बीटेक के अलावा भी जो कोर्स चल रहे है उनके विद्यार्थियों के लिए भी विशेष प्लेसमेंट करवाना चाहिए। साथ ही बीटेक सिविल एवं मैकेनिकल कोर्स के विद्यार्थियों के लिए कोर कंपनी बुलाकर उनका प्लेसमेंट करवाना चाहिए ताकि वो अपनी दक्ष फील्ड में ही आगे अपनी सेवाएं दे सके।

यह भी पढ़ें: HPBOSE ने जारी किए 10वीं और 12वीं की प्रैक्टिकल परीक्षाओं के शेड्यूल

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है