×

Bihar को तीन पेट्रोलियम परियोजनाओं की सौगात, #PM_Modi बोले – हर सेक्टर के विकास को बढ़ा रहे आगे

पीएम ने 17 फरवरी, 2019 को किया था इन पाइपलाइन का शिलान्यास

Bihar को तीन पेट्रोलियम परियोजनाओं की सौगात, #PM_Modi बोले – हर सेक्टर के विकास को बढ़ा रहे आगे

- Advertisement -

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने आज बिहार को तीन पेट्रोलियम परियोजनाओं (Petroleum Projects) की सौगात दी। इस परियोजना में पारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर गैस पाइपलाइन का दुर्गापुर बांका खंड सहित दो एलपीजी बॉटलिंग प्लांट शामिल हैं। उन्होंने 17 फरवरी, 2019 को इन पाइपलाइन का शिलान्यास किया था। पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ वर्ष पहले जब बिहार के लिए विशेष पैकेज की घोषणा की गई थी तो उसमें बहुत फोकस राज्य के इंफ्रास्ट्रक्चर पर था। मुझे खुशी है कि इसी से जुड़े एक महत्त्वपूर्ण गैस पाइप लाइन प्रोजेक्ट के दुर्गापुर-बांका सेक्शन का लोकार्पण करने का अवसर मुझे मिला है। उन्होंने कहा कि हम बिहार के हर एक सेक्टर के विकास को आगे बढ़ा रहे हैं, हर एक सेक्टर की समस्याओं के समाधान का प्रयास कर रहे हैं, ताकि बिहार विकास की नई उड़ान भरे। उतनी ऊंची उड़ान भरे जितना ऊंचा बिहार का सामर्थ्य।


 

 

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा –

उज्जवला योजना की वजह से आज देश के आठ करोड़ गरीब परिवारों के पास भी गैस कनेक्शन मौजूद है। इस योजना से गरीब के जीवन में क्या परिवर्तन आया है, ये कोरोना के दौरान हम सभी ने फिर महसूस किया है। प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना के तहत पूर्वी भारत को पूर्वी समुद्री तट के पारादीप और पश्चिमी समुद्री तट के कांडला से जोड़ने का भागीरथ प्रयास शुरु हुआ। करीब 3 हजार किलोमीटर लंबी इस पाइपलाइन से सात राज्यों को जोड़ा जा रहा है जिसमें बिहार का भी प्रमुख स्थान है।
एक समय था जब रेल, रोड, इंटरनेट कनेक्टिविटी ये सब प्राथमिकताओं में थे ही नहीं। आज जब देश के अनेकों शहरों में सीएनजी पहुंच रही है, पीएनजी पहुंच रही है, तो बिहार के लोगों को पूर्वी भारत के लोगों को भी ये सुविधाएं उतनी ही आसानी से मिलनी चाहिए। इसी संकल्प के साथ हम आगे बढ़े।

 

गैस बेस्ड इंडस्ट्री (Gas based industry) और पेट्रो-कनेक्टिविटी, ये सुनने में बड़े टेक्निकल से लगते हैं, लेकिन इनका सीधा असर लोगों के जीवन पर पड़ता है, जीवन स्तर पर पड़ता है। गैस बेस्ड इंडस्ट्री और पेट्रो-कनेक्टिविटी रोजगार के भी लाखों नए अवसर बनाती है।
बिहार सहित पूर्वी भारत में ना तो सामर्थ्य की कमी है और ना ही प्रकृति ने यहां संसाधनों की कमी रखी है। बावजूद इसके बिहार और पूर्वी भारत विकास के मामले में दशकों तक पीछे ही रहा। इसकी बहुत सारी वजहें राजनीतिक थी, आर्थिक थीं, प्राथमिकताओं की थीं।
जगदीशपुर-हल्दिया पाइपलाइन प्रोजेक्ट का जो हिस्सा बिहार से गुजरता है, उस पर भी काम पिछले साल मार्च में ही समाप्त कर लिया गया है। मोतीहारी अमलेखगंज पाइपलाइन पर भी पाइपलनाइन से जुड़ा काम पूरा कर लिया गया है।

 

इससे पहले पटना एलपीजी प्लांट के विस्तार और स्टोरेज कैपेसिटी (Storage capacity) बढ़ाने का काम हो, पूर्णिया के एलपीजी प्लांट का विस्तार हो, मुजफ्फरपुर में नया एलपीजी प्लांट हो, ये सारे प्रोजेक्ट पहले ही पूरे किए जा चुके हैं।
बिहार के लिए जो प्रधानमंत्री पैकेज दिया गया था, उसमें पेट्रोलियम और गैस से जुड़े 10 बड़े प्रोजेक्ट थे। इन प्रोजेक्ट्स पर करीब-करीब 21 हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाने थे। आज ये सातवां प्रोजेक्ट है जिसमें काम पूरा हो चुका है, जिसे बिहार के लोगों को समर्पित किया जा चुका है।

 

इस सेक्शन की लंबाई करीब 200 किमी है। मुझे बताया गया है कि इस रूट पर पाइप लाइन बिछाकर काम करना बहुत चुनौतीपूर्ण था।
स्टार्टअप इंडिया, मुद्रा योजना आदि योजनाओं ने बिहार के नौजवानों को स्वरोजगार के लिए जरूरी राशि मुहैया कराई है। सरकार का प्रयास ये भी है कि जिला स्तर पर बिहार के नौजवानों को skill बढ़ाने की ट्रेनिंग दी जाए।

ये भी पढे़ं – अंडमान को Submarine OFC की सौगात, PM Modi बोले – इंटरनेट स्पीड के साथ बढ़ेगी कनेक्टविटी

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है