Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,571,295
मामले (भारत)
197,365,402
मामले (दुनिया)
×

उद्धव ठाकरे के बेटे तेजस की Team ने खोजी छिपकली की एक नई प्रजाति; पहले खोजा था ‘ठाकरे कैट स्नैक’

उद्धव ठाकरे के बेटे तेजस की Team ने खोजी छिपकली की एक नई प्रजाति; पहले खोजा था ‘ठाकरे कैट स्नैक’

- Advertisement -

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे के छोटे बेटे तेजस ठाकरे और उनके दल ने कर्नाटक के मध्य पश्चिमी घाट में स्थित सकलेश्वर में छिपकली (lizard) की एक नई प्रजाति की खोज की है। इस नई प्रजाति को ‘Cnemaspis magnifica’ नाम दिया गया है। चार सदस्यीय दल द्वारा लिखे गए शोध पत्र के प्रथम लेखक अक्षय खांडेकर ने बताया कि नई ‘गेको’ प्रजाति की खोज पश्चिमी घाट के उस क्षेत्र में की गई जहां जैव विविधता का भंडार है। गौरतलब है कि इस खोज को अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रिका ‘ज़ूटाक्सा’ में प्रकाशित किया गया है।

यह भी पढ़ें: खुशखबरी: आ गई Covid-19 का इलाज करने वाली दवा; 103 रुपए है एक गोली का दाम

इससे पहले की थी सांपों की एक नई प्रजाति खोज

इससे पहले महाराष्ट्र के पश्चिमी घाट में सांपों की एक नई प्रजाति खोजी गई थी और इस प्रजाति का नाम शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के छोटे बेटे तेजस ठाकरे के नाम पर रखा गया था। क्योंकि इसके खोज में उनका महत्वपूर्व योगदान था। यह प्रजाति आमतौर पर कैट स्नेक की कैटेगरी में आती है और genusBoiga से संबंधित है। इस नई प्रजाति का नाम `ठाकरे कैट स्नेक’ (Thackeray’s cat snake) वैज्ञानिक नाम बोइगा ठाकेराई (Boiga thackerayi) रखा गया था। तेजस उद्धव ठाकरे के छोटे बेटे हैं। 125 साल में पश्चिमी घाट में बोइगा का पता लगाया गया था। यह खासतौर पर पेड़ पर मेढ़कों और उसके अंडे को खाते हैं।


फाउंडेशन फॉर बायोडायवर्सिटी कंजर्वेशन के शोध में की थी मदद

तेजस ठाकरे ने 2015 में पहली बार इस प्रजाति को देखा और इसके व्यवहार का विस्तार से अध्ययन किया। उन्होंने इन विवरणों को फाउंडेशन फॉर बायोडायवर्सिटी कंजर्वेशन के लिए प्रस्तुत किया और आगे के शोध में मदद की थी। इस नई प्रजाति का वर्णन करने वाला एक रिसर्च पेपर गुरुवार को बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी (बीएनएचएस) के जर्नल में प्रकाशित हुआ था। इस वंश (जाति) से संबंधित सांप पूरे भारत में पाए जाते हैं, लेकिन कुछ प्रजातियां पश्चिमी घाट में ही पाए जाते हैं। यह नया सांप अभयारण्य है, जो ज्यादातर जंगल की धाराओं के करीब देखा जाता है। रात में एक्टिव होते हैं। ये जहरीले नहीं होते हैं। इसकी लंबाई तीन फीट तक होती है। यह हुमायूं नाइट फ्रॉग (Nyctibatrachushumayuni) के अंडे खाता है। इससे पहले पश्चिमी घाट में इस कैट स्नेक के बारे में सूचना नहीं मिली थी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है