Covid-19 Update

2,00,791
मामले (हिमाचल)
1,95,055
मरीज ठीक हुए
3,437
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

Dalai Lama बोले, Corona जैसे संकट से बाहर आने के लिए प्रार्थना करना मात्र पर्याप्त नहीं

Dalai Lama बोले, Corona जैसे संकट से बाहर आने के लिए प्रार्थना करना मात्र पर्याप्त नहीं

- Advertisement -

मैक्लोडगंज। तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा (Dalai Lama) ने कहा है कि कभी-कभी मेरे मित्र मुझसे कहते हैं कि अपनी जादुई शक्तियों का प्रयोग कर इस जगत की समस्याओं को दूर कीजिए, मैं हमेशा उनसे यही कहता हूं कि मेरे पास कोई जादुई शक्तियां नहीं हैं। यदि ऐसा होता तो मेरे पैरों में दर्द और गले में खराश नहीं होता। हम सब मनुष्य के रूप में एक समान हैं, तथा भय, आशा और अनिश्चितताओं का समान रूप से अनुभव करते हैं। बौद्ध दर्शन के अनुसार प्रत्येक प्राणी दुःख एवं रोग, बुढ़ापा और मृत्यु की सच्चाइयों से परिचित है। मनुष्य होने के नाते हम सब में यह क्षमता है कि हम अपनी बुद्धि-विवेक का प्रयोग कर क्रोधए घबराहट एवं लोभ से विमुक्त हो जाएं। उन्होंने जोर देकर कहा है कि हम सभी जिस कोरोना वायरस (Coronavirus) जैसे संकट से होकर गुजर रहे हैं, उससे बाहर आने के लिए प्रार्थना करना मात्र पर्याप्त नहीं है, यह संकट हमें सिखाता है कि जहां भी संभव हो हम सबको अपने दायित्व का निर्वाह करना चाहिए।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

समस्या का समाधान है, तो उसे ढूंढ़ने की कोशिश करनी चाहिए

तिब्बती धर्मगुरु ने कहा कि हाल के वर्षों में मेरा भावनात्मक अशस्रीकरण पर ज़ोर रहा है, जिसका तात्पर्य है कि हम ऐसा प्रयत्न करें जिससे भय और रोष के भ्रम से बाहर निकलकर वस्तुस्थिति को यथार्थ और स्पष्ट रूप में देख सकें। यदि समस्या का समाधान है तो हमें उसे ढूंढ़ने की कोशिश करनी चाहिए और यदि नहीं है तो हमें उसके बारे में सोचकर समय नष्ट नहीं करना चाहिए। हम बौद्ध मानते हैं कि सम्पूर्ण विश्व-परिवार एक दूसरे पर आश्रित हैं। इसीलिए प्रायः मैं सार्वभौमिक दायित्व की बात करता हूं। इस भयावह कोरोना महामारी ने दिखा दिया कि एक व्यक्ति के साथ जो घटित होता है उसे अन्य व्यक्तियों के साथ घटित होने में देर नहीं लगता। लेकिन यह हमें इसका भी स्मरण कराता है कि करुणामय आचरण एवं रचनात्मक कार्यों में अनेक लोगों की सहायता करने की क्षमता होती है, चाहे वह चिकित्सालय में मदद करके हो या फिर सामाजिक दूरी बनाये रखकर। दलाई लामा ने ये बातें एक पत्रिका के साथ साक्षात्कार में कहीं हैं।


हम सबको अपने दायित्व का निर्वाह करना चाहिए

दलाई लामा ने कहा कि जिस दिन से वुहान शहर में कोरोना वायरस फैलने का समाचार प्राप्त हुआ तब से मैं चीन तथा अन्य देशों के मेरे भाईयों एवं बहनों के लिए प्रार्थना कर रहा हूं। हम देख सकते हैं कि कोई भी इस वायरस से प्रतिरक्षित नहीं है। हम सब अपने प्रियजनों एवं भविष्य तथा वैश्विक एवं व्यक्तिगत अर्थव्यवस्था दोनों को लेकर आशंकित हैं। लेकिन प्रार्थना करना मात्र पर्याप्त नहीं है। यह संकट हमें सिखाता है कि जहां भी संभव हो हम सबको अपना दायित्व का निर्वाह करना चाहिए। चिकित्सकों एवं नर्सों द्वारा अनुभवजन्य विज्ञान के साथ मिलकर इस स्थिति को नियंत्रित करने तथा भविष्य में ऐसे सम्भावित खतरों से रक्षा करने के प्रयासों को देखकर हमें आश्वस्त रहना चाहिए। इस आशंकापूर्ण समय में दीर्घकालिक चुनौतियों, सम्भावनाओं और सम्पूर्ण विश्व के बारे में चिंतन करना अत्यावश्यक है।

 

हम अलग-अलग रहने पर भी एक दूसरे से अलग नहीं

अंतरिक्ष से लिए गए हमारी पृथ्वी के चित्रों से स्पष्ट है कि इस नीले ग्रह पर कोई वास्तविक सीमाएं नहीं है। इसलिए, हम सबको इसका ध्यान रखना चाहिए तथा जलवायु परिवर्तन जैसे अन्य विनाशकारी शक्तियों को रोकने के लिए ठोस कदम उठाना चाहिए। यह महामारी एक चेतावनी स्वरूप है जो हमें यह सीख दे रही है कि हम सामूहिक रूप से वैश्विक प्रतिक्रिया के द्वारा ही इस अभूतपूर्व विशालकाय चुनौती का सामना कर सकते हैं। हमें यह भी याद रखना चाहिए कि कोई भी व्यक्ति पीड़ा से मुक्त नहीं हैए इसलिएए उन लोगों का अधिकाधिक मदद करना हैं जिनका कोई घर, जिविकोपार्जन का साधन और परिवार नहीं हैं। दलार्द लामा ने कहा कि यह संकट हमें बता रहा है कि हम अलग-अलग रहने पर भी एक दूसरे से अलग नहीं हैं। इसलिए, हम सबका यह कर्तव्य है कि हम करुणापूर्वक दूसरों की मदद करें। एक बौद्ध होने के नाते मैं अनित्यता (परिवर्तनशीलता) के सिद्धांत पर विश्वास करता हूं। जैसा कि मैंने अपने जीवनकाल में अनेक युद्ध और भयानक खतरों को समाप्त होते देखा है, अन्ततः यह विषाणु भी समाप्त हो जाएगा। हमने इससे पहले भी कई बार वैश्विक समुदाय का पुनर्निर्माण किया है उसी तरह इस बार भी करेंगे। मैं विशुद्ध मन से आशा करता हूं कि आप सभी सुरक्षित एवं शांतिपूर्वक रहेंगे। अनिश्चितता के इस घड़ी में यह महत्वपूर्ण है कि विभिन्न लोगों द्वारा किए जा रहे रचनात्मक प्रयासों में हम आशा और विश्वास बनाए रखें।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है