Covid-19 Update

2,17,140
मामले (हिमाचल)
2,11,871
मरीज ठीक हुए
3,637
मौत
33,501,851
मामले (भारत)
229,513,714
मामले (दुनिया)

लॉकडाउन में Job से निकाला तो Software Engineer ने ऐसे लिया बदला, उड़ाया 18000 मरीजों का डाटा

लॉकडाउन में Job से निकाला तो Software Engineer ने ऐसे लिया बदला, उड़ाया 18000 मरीजों का डाटा

- Advertisement -

नई दिल्ली। लॉकडाउन में कंपनी ने एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी काट दी उसने जब विरोध किया तो उसे नौकरी से निकाल दिया गया। इसके बाद उस युवक ने अपना बदला लेने का ऐसा रास्ता निकाला जो कोई सोच भी नहीं सकता। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने एक ऐसे हैकर को गिरफ्तार किया है जिसने एक के बाद एक 4 साइबर अटैक कर 18000 मरीजों का डाटा डिलीट कर दिया जिसमें कोरोना के मरीज भी शामिल हैं। इसके साथ ही उसने 3 लाख मरीजों की बिलिंग से जुड़ी जानकारी हासिल की और 22 हजार मरीजों की फर्जी एंट्री कर दी। दिल्ली के नार्थ-वेस्ट जिले की डीसीपी विजयन्ता आर्या ने बताया कि इजी सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी (Easy Solution Private Limited Company) के सीईओ कुणाल अग्रवाल ने दिल्ली पुलिस को शिकायत दी थी कि किसी शख्स ने कुछ कोविड अस्पतालों और बाकी दिल्ली के दूसरे अस्पतालों का डाटा हैक कर लिया है।

ये भी पढे़ं – Facebook अकाउंट हैक कर ठगे 6 हजार रुपए, पीड़ित ने दर्ज करवाई शिकायत

 

मामले की जांच साइबर सेल को दी गई। साइबर सेल (Cyber cell) ने जब एफआईआर दर्ज कर पूरे मामले की जांच शुरू की और हैकर का आईपी एड्रेस खोज निकाला। हैकर दिल्ली के शाहदरा में विकेश शर्मा नाम से निकला, पुलिस ने आईपी एड्रेस के आधार पर रेड की और आरोपी विकेश शर्मा को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में विकेश ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। जांच में पता चला है कि विकेश ने आईटी से एमएससी किया है। विकेश शिकायतकर्ता की ही कंपनी में बतौर सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर काम करता था। लॉकडाउन में कंपनी ने उसकी सैलरी में कटौती कर दी थी जिससे वो खफा हो गया था। उसने जब सैलरी कटौती का विरोध किया तो कंपनी ने उसे नौकरी से निकाल दिया।

 

 

विकेश को कंपनी की वेबसाइट (Website) की एक-एक डिटेल्स की जानकारी थी। लिहाजा नौकरी जाने के बाद विकेश ने फैसला किया कि कंपनी को ऐसा नुकसान किया जाए और ऐसा सबक सिखाया जाए जिससे कंपनी घुटने टेक दे और फिर मदद के लिए मालिक उसके पास आए। इसलिए उसने 4 साइबर हमले कर 18 हजार मरीजों का डाटा डिलीट कर दिया, 3 लाख मरीजों की बिलिंग से जुड़ी जानकारी हासिल की और 22 हजार मरीजों की फर्जी एंट्री कर दी, जिसके कंपनी को काफी ज्यादा नुकसान हुआ। पुलिस ने विकेश को गिरफ्तार कर लिया है। उसके पास से लैपटॉप भी बरामद हुआ जिससे उसने हैकिंग को अंजाम दिया था। उससे घटना के संबंध में पूछताछ की जा रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है