Covid-19 Update

2,00,832
मामले (हिमाचल)
1,95,254
मरीज ठीक हुए
3,440
मौत
30,028,709
मामले (भारत)
179,981,557
मामले (दुनिया)
×

महिलाओं में चुगली करने की आदत का क्या है राज-जानकर हो जाएंगे लोटपोट

वैज्ञानिक रिसर्च कहता है कि ज्यादा बोझ नहीं सह पाती हैं महिलाएं

महिलाओं में चुगली करने की आदत का क्या है राज-जानकर हो जाएंगे लोटपोट

- Advertisement -

जो बात आज हम करने जा रहे हैं वह छिपी नहीं है, अकसर कहीं जाती है। बात महिलाओं से जुड़े है,हमारा मकसद यहां किसी की भावनाओं (Feelings) को हर्ट करना नहीं है। ये तो वो बात है, जिसका सच क्या है, इस रपट में बताने की कोशिश कर करेंगे। चलो तो बात करते हैं, मुख्य मुद्दे की, अक्सर आपने देखा होगा कि महिलाएं (Women) किसी भी बात को अपने तक नहीं रख पाती, वो जब तक अपनी बात को दूसरे से शेयर ना करें तब तक उन्हें चैन नहीं होता। क्या आपने सोचा है कि आखिर इसकी क्या वजह है। आखिर महिलाओं का ऐसा स्वभाव होता क्यों हैं। आज हम आपको इन सभी सवालों के जबाव देंगे,वो भी बहुत ही कम शब्दों में।

यह भी पढ़ें: ये विवाहिता होकर भी कहलाती रही हैं कुंवारी-यहां पढ़े कौन हैं ये महिलाएं

वैज्ञानिक लॉजिक (Scientific Logic) के मुताबिक, महिलाएं ज्यादा बोझ को सहन नहीं कर पाती हैं। उनको बात छुपाना भी बोझ जैसा फील होता है, इसलिए अपने बोझ को कम करने के लिए किसी भी बात को किसी दूसरे के साथ (Share Everything with Others)शेयर करती हैं। यहीं नहीं महिलाएं अक्सर दूसरों का ध्यान अपनी ओर खींचने का प्रयास करती है। इसलिए वो अपनी बातों को ऐसे प्रजेंट करती है, जिसमें (Suspense) सस्पेंस क्रिएट हो। इसी सस्पेंस क्रिएट करने के चक्कर में वो कोई भी बात सामने वाले को बताना अपना बड़प्पन समझती हैं।


यह भी पढ़ें: नजर दोष क्या है-अंधविश्वास या फिर इसमें है कोई वैज्ञानिक लॉजिक,रोचक है मामला

वैज्ञानिक लॉजिक के अलावा (Mythological Beliefs) पौराणिक मान्यता भी हैं। इसी पौराणिक मान्यता के अनुसारए युधिष्ठिर (Yudhishthira) ने महिलाओं को शाप दिया था कि वो आज से कभी भी अपनी बात को पेट में नहीं रख पाएंगी। ऐसा उन्होंने अपनी मां कुंती की वजह से किया था क्योंकि कुंती ने उन्हें अपने छठे पुत्र कर्ण के बारे में बताया नहीं था। इसलिए उन्होंने क्रोध में आकर महिलाओं को शाप दे दिया। तब से लेकर आज दिन तक ऐसा ही चलता आ रहा है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है