Covid-19 Update

2,63,914
मामले (हिमाचल)
2, 48, 802
मरीज ठीक हुए
3944*
मौत
40,371,500
मामले (भारत)
363,221,567
मामले (दुनिया)

इन देशों में क्रिसमस मनाने की है अनोखी परंपरा, यहां शरारती बच्चों को दिए जाते हैं कोयले

क्रिसमस का कनाडा से है खास रिश्ता

इन देशों में क्रिसमस मनाने की है अनोखी परंपरा, यहां शरारती बच्चों को दिए जाते हैं कोयले

- Advertisement -

दिसंबर शुरू होते ही दुनियाभर में क्रिसमस (Christmas) को लेकर तैयारियां शुरू हो जाती हैं। क्रिसमस वीक आते ही तमाम तरह के इवेंट्स भी शुरू हो जाते हैं। हर देश में लोग अपने-अपने तरीके से क्रिसमस की प्लानिंग करते हैं और अपनी परंपरा व रीति-रिवाज के अनुसार क्रिसमस की तैयारियां करते हैं। कई जगहों पर लोग इस दिन अपने दोस्तों व रिश्तेदारों के घर जाकर पिकनिक मनाते हैं और क्रिसमस कैरोल गाते हुए मौज-मस्ती करते हैं।

यह भी पढ़ें:ईसाई धर्म नहीं मानता जिंगल बेल को क्रिसमस सॉंग, जानिए क्या है कारण

अब क्रिसमस डे को केवल दो दिन बाकी हैं और दुनियाभर के देशों में क्रिसमस को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं। इंग्‍लैंड (England) में क्रिसमस के त्योहार को बहुत ही अनुशासनात्मक तरीके से मनाया जाता है। इंग्लैंड में इस दिन ज्यादा शरारत करने वाले बच्चों को स्टॉकिंग्स में मिठाई के बजाय कोयले दिए जाते हैं। समस को लेकर ऑस्ट्रिया (Austria) में मान्‍यता है कि नवजात यीशु क्रिसटकाइंड (Christkind) सुनहरे बालों वाला लड़का क्रिसमस ट्री को सजाता है। इसके अलावा ऑस्ट्रियाई बच्चे क्रैम्पस नामक एक क्रिसमस डेविल को भी मानते हैं, जो काफी डरावना है और शरारती बच्चों को मारता है। जबकि स्लोवाकिया (Slovakia) में क्रिसमस के दिन खास लोक्सा हलवा बनाया जाता है। यह हलवा लकड़ियों की आंच पर बनाया जाता है। हलवा बनने का बाद घर का सबसे बुजुर्ग सदस्य हलवे का थोड़ा हिस्सा निकाल कर घर की छत पर फेंकते हैं और फिर घर के बाकी सदस्य इस हलवे को खाते हैं।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: इस दिन बदलेगा मौसम का मिजाज, व्हाइट क्रिसमस की बढ़ी उम्मीद

क्रिसमस का कनाडा (Canada) से खास रिश्ता है। कहा जाता है सांता क्लॉज (Santa Claus) का घर कनाडा में है और यहां पोस्ट के जरिए सांता को चिट्ठियां भेजी जाती हैं। स्विट्जरलैंड (Switzerland) में क्रिसमस के दिन जुलूस निकाला जाता है और नए साल से पहले की शाम लोग ट्राइकलर (Tricolor) में शामिल होते हैं और काऊ बेल्‍स (Cow Bells) पहनकर परेड में भाग लेते हैं। मान्यता है कि परेड में जोर-जोर से शोर मचाने से बुरी आत्माएं दूर हो जाती हैं। वहीं, दुनिया के बाकी हिस्सों के विपरीत ऑस्ट्रेलिया (Austrailia) में क्रिसमस समर में मनाया जाता है। यहां सांता क्लॉज अपने पारंपरिक परिधानों को उतार देता है। उसके रेंडियर को आराम करने की अनुमति होती है और उनकी जगह 6 कंगारू (Kangaroo) होते हैं। वहीं, ग्रीक (Greece) में मान्‍यता है कि कालीकंतजरोइ (Kallikantzaroi) जो दुष्ट गोबलिन की एक जाति है, वो अंडरग्राउंड रहता है और क्रिसमस से लेकर 6 जनवरी तक 12 दिन तक रहते हैं। ऐसे में दिन में एक बार क्रॉस और होली बेसिल को किसी पवित्र पानी में डुबोकर घर के प्रत्येक कमरे में पानी छिड़के जाते हैं ताकि बुरी आत्माओं को दूर किया जा सके।

यह भी पढ़ें:25 दिसंबर को नहीं कहा जाता हैप्पी क्रिसमस, मैरी शब्द का क्यों होता है इस्तेमाल

क्रिसमस के दिन अर्जेंटीना (Argentina) में लोग क्रिसमस से पहले की शाम आसमान को लालटेन जलाकर छोड़ते हैं। अर्जेंटीना में लोग इस दिन कागज से ग्लोब जैसा आकार तैयार कर उसमें आग जलाकर आसमान की ओर छोड़ते हैं। वेनेजुएला (Venezuela) में रात 8 बजे से सड़कों को खाली कर दिया जाता है। वेनेजुएला के काराकास की राजधानी में लोग रोलर स्केट्स से चर्च तक जाते हैं। वहीं, नॉर्वे (Norway) में सांता क्लॉज और निस्से (Nisse) यानी सांता क्लॉज जैसे छोटे-छोटे गुड्डों को सजावट के लिए इस्तेमाल किया जाता है। चेक रिपब्लिक (Czech republic) में मान्‍यता है कि अगर एक युवा महिला शादी करना चाहती है तो उसे क्रिसमस के दिन अपने कंधे पर जूता फेंकना चाहिए। ऐसा करने पर अगर पैर की उंगली दरवाजे की ओर घूमती रहती है तो इसका मतलब है कि वो जल्द ही शादी कर पाएगी। जबकि, बेल्जियम (Belgaum) में क्रिसमस की दावत के लिए विशेष रूप से पाव रोटी सजाई जाती है जिसे Pita (पीता) कहा जाता है, जिसे सिक्कों में पकाया जाता है। मान्‍यता है कि जिस व्यक्ति को सिक्का मिलता है वो सौभाग्यशाली होता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है