Covid-19 Update

1,53,717
मामले (हिमाचल)
1,11,878
मरीज ठीक हुए
2185
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

#Kangra: मछुआरों को मिलने वाले राहत भत्ते में होगी 1500 की बढ़ोतरी, 2 से बढ़ाकर 5 लाख की बीमा राशि

वीरेंद्र कंवर ने फतेहपुर के मछुआरा लाभार्थी सम्मेलन में की शिरकत, बांटी लाइफ जैकेट्स

#Kangra: मछुआरों को मिलने वाले राहत भत्ते में होगी 1500 की बढ़ोतरी, 2 से बढ़ाकर 5 लाख की बीमा राशि

- Advertisement -

रविंद्र चौधरी/फतेहपुर। हिमाचल प्रदेश में मछुआरों (Fishermen) को बंद सीजन में मिलने वाले राहत भत्ते (Relief allowance) में 1500 रुपये की बढ़ोतरी की जाएगी। मछुआरों को जहां पहले तीन हजार रुपए राहत राशि मिलती थी अब वह बढ़ाकर 45 सौ रुपए प्रतिमाह की जाएगी। इसके अलावा मछुआरों की बीमा राशि को भी 2 लाख रुपए से बढ़ा कर पांच लाख रुपए किया गया है, जबकि स्थाई दिव्यांगता की स्थिति में उन्हें 2 लाख 50 हज़ार रुपए की सहायता राशि प्रदान की जा रही है। यह बात शुक्रवार को पशुपालन तथा मत्स्य मंत्री वीरेंद्र कंवर (Minister Virender Kanwar) ने कांगड़ा ज़िला के फतेहपुर (Fatehpur) उपमंडल के खटियाड़ में मत्स्य विभाग द्वारा आयोजित मछुआरा लाभार्थी सम्मेलन में कहे। उन्होंने कहा कि मत्स्य पालन को बढ़ावा देने तथा मछुआरों के हितों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना ( pradhaanamantree matsy sampada yojana) मछुआरों की आय को दोगुना करने में बरदान साबित होगी। प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना आगामी पांच वर्षों तक प्रभावी रहेगी। इस अवसर पर मंत्री वीरेंद्र कंवर ने करीब 99 मछुआरों को जैकेट्स प्रदान कीं।


यह भी पढ़ें: Himachal में RAS तकनीक के उपयोग से भूमि आधारित मछली पालन होगा शुरू


मत्स्य मंत्री ने कहा कि पौंग डैम मंडल के तहत 15 सहकारी सभाओं के कुल 1798 मछुआरों को ये जैकेट्स ( life jackets ) वितरित की जा रही हैं। कंवर ने बताया कि इस योजना में सामान्य वर्ग के लाभार्थियों को 40 प्रतिशत जबकि अनुसूचित जाति, जनजाति एवं महिला वर्ग से आने वाले लाभार्थियों को 60 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान किया गया है। उन्होंने बताया कि इस योजना के अंतर्गत फिश कियोस्क स्थापित करने, आईस बॉक्स के साथ मोटर साइकिल व तिपहिया वाहन, लघु फिश फीड मिल, प्रशिक्षण, जागरूकता, जोखिम व क्षमता निर्माण, आईस प्लांट, ट्राउट हैचरी, स्वच्छ जल में फिनफिश हैचरी, मछुआरों को नाव व जाल मुहैया करवानाए रीयरिंग तालाब तथा बायोफलॉक तालाब के निर्माण, मछली पालकों के लिए बीमा (Insurance) का भी प्रावधान रखा गया है। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा कि वे अधिक से अधिक लोगों को इस योजना से जोड़ने के लिए प्रभावी कदम उठाएं।

वीरेंद्र कंवर ने मुख्यमंत्री लोक भवन की रखी आधारशिला

ग्रामीण विकास मंत्री ने इससे पहले फतेहपुर की मच्छोट पंचायत में 50 लाख रुपए की लागत से बनने वाले मुख्यमंत्री लोक भवन की आधारशिला रखी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार गांवों के विकास तथा पंचायती राज संस्थाओं को स्वावलम्बीए स्वायत्त तथा सुद्ढ़ बनाने के लिए निरन्तर प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि सुदृढ़ ग्रामीण अर्थव्यवस्था एक समृद्ध राष्ट्र की पहचान होती है। प्रदेश सरकार द्वारा ग्रामीण आर्थिकी को मजबूत करने तथा ग्रामीणों के जन.जीवन को खुशहाल बनाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने पंचायत चुनावों में योग्य, ईमानदार तथा काम करने वाले लोगों को जिताने की अपील की, ताकि विकास कार्यों को गति मिल सके।

वीरेंद्र कंवर ने की यह घोषणाएं

उन्होंने डुहक, रे खास, टटवाली, स्थाना, कुडल, बाड़ी, पोलियां, ध्याना तथा धमेटा पंचायतों में रास्तों के निर्माण के लिए पांच-पांच लाख रुपए जबकि मच्छोट पंचायत के लिए 10 लाख रुपए देने की घोषणा की। उन्होंने पंचायत चुनाव में मच्छोट पंचायत के सर्वसम्मति से चुनने पर राज्य सरकार द्वारा निर्धारित 10 लाख रुपए की राशि के अतिरिक्त अपनी और से 10 लाख रुपए की अतिरिक्त धनराशि देने की घोषणा की। उन्होंने विभाग से पूरी रिपोर्ट लेने के पश्चात यहां पर कृषि विभाग का कार्यालय खोलने का भी आश्वासन दिया।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है