हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017

BJP

44

INC

21

अन्य

3

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

27 साल से राहगीरों की प्यास बुझा रहे ‘पानी बाबा’, सेवा ना रूके..नहीं की शादी

राजस्थान के भीलवाड़ा में मटका और लोटा उठाए मिल जाएंगे बुजुर्ग

27 साल से राहगीरों की प्यास बुझा रहे ‘पानी बाबा’, सेवा ना रूके..नहीं की शादी

- Advertisement -

गर्मियों (Summer) में पानी की किल्लत के चलते इंसानों के ही नहीं पशु-पक्षियों के भी हलक सूखने लगते है। पानी (Water) की भारी किल्लत के चलते लोगों को दो घूट पीने का पानी नहीं मिलता है। लोगों को पानी के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। इस दौरान दिल करता है कि कोई जल्द से एक गिलास पानी का पिला दे। राजस्थान (Rajasthan) में तो पानी ढूंढना रेत में सूई ढ़ूढने के बराबर है। राजस्थान के भीलवाड़ा में एक बुजुर्ग 27 साल से राहगीरों की प्यास बुझा रहे हैं। इन बुजुर्ग को लोग पानी बाबा के नाम से जानते हैं।

यह भी पढ़ें- गर्मियों में करें खरबूजा का सेवन, इन बीमारियों से मिलेगा छुटकारा

खुद के खोदे कुएं से पिलाते हैं लोगों को पानी

पानी बाबा (Pani Baba) का असली नाम मांगीलाल गुर्जर है और 78 साल के हैं। वे भीलवाड़ा के गुंदली गांव के रहने वाले हैं। बाबा लोगों की प्यास बुझाने के लिए प्रसिद्ध हैं। बाबा आसपास के इलाके में मटका और लोटा लेकर निकलते हैं और प्यासे लोगों की प्यास बुझाते हैं। ख़ास बात ये है कि वो इसके लिए किसी तरह का कोई शुल्क (Fee) या पैसा नहीं लेते। वो ये नेक काम धर्मार्थ कर रहे हैं। यही नहीं वो जिस कुएं से पानी लेकर आते हैं वो कुंआ (Well) भी उन्होंने ख़ुद अपने हाथों से खोदा है। मांगीलाल जी को बचपन से ही लोगों की सेवा करने में सुकून मिलता था। आज से 27 साल पहले अमरगढ़ और बागोर जाने वाले रोड से 3 किलोमीटर दूर अपने गांव जाने के रास्ते के चौराहे पर इन्होंने लोगों को पानी पिलाना शुरू किया था।

लोगों की सेवा के लिए नहीं की शादी

अब बेशक गांव का विकास होने और पक्की सड़क बनने के बाद लोग अब मोटर गाड़ी से चलने लगे हैं, लेकिन फिर भी इन्होंने लोगों को पानी पिलाने का काम बंद नहीं किया। अब मांगीलाल जी (Mangilal) कुएं से पानी भर मटके को सिर पर रख गांव-गांव जाते हैं और सबकी प्यास बुझाते हैं। उन्होंने इस काम को जारी रखने के लिए शादी (Marriage) तक नहीं की। उनके पास जो पुश्तैनी ज़मीन है वो भी उन्होंने अपने चाचा के बच्चों को दे दी है। उस पर अब वही खेती करते हैं। मांगीलाल लोगों के बीच काफ़ी प्रसिद्ध हैं और वह जहां भी जाते हैं, लोग इनके खाने-पीने की व्यवस्था कर देते हैं। पानी का मटका लिए ये बाबा को मांडल, बागोर, रायपुर, कोशीथल, मांडलगढ़ और राजसमंद ज़िले के आमेट, देवगढ़, कुंवारिया जैसे गांव तक हो आते हैं। ये जहां भी जाते हैं लोग इनका ख़ूब आदर-सत्कार करते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है