Covid-19 Update

2,00,832
मामले (हिमाचल)
1,95,254
मरीज ठीक हुए
3,440
मौत
30,028,709
मामले (भारत)
179,981,557
मामले (दुनिया)
×

जींस में छोटी पॉकेट का क्या है राज, जानकर बढ़ जाएगा आपका ज्ञान

वॉच पॉकेट का चलन वर्ष 1879 से चला आ रहा है

जींस में छोटी पॉकेट का क्या है राज, जानकर बढ़ जाएगा आपका ज्ञान

- Advertisement -

कई बातें बहुत छोटी-छोटी होती हैं, लेकिन उनका इतिहास पुराना होता है। कई बार हम इन छोटी बातों पर गौर नहीं फरमाते लेकिन इसमें गहराई होती है। आज हम बात करेंगे (Jeans) जींस की। जींस की आगे वाली जेब में एक छोटी सी जेब (Small Pocket) क्यों होती है। भारत में तो शायद लोग यही जानते हैं कि इसे चेंज यानी छुटृटे पैसे डालने के लिए बनाया गया है। लेकिन इसके पीछे की कहानी कुछ और ही है। ये कहानी आपके लिए भी जरूरी है,ताकि आपका ज्ञानवर्धन हो सके।

यह भी पढ़ें: लड़कियों की शर्ट का बटन आखिर क्यों होता है बाईं तरफ-पढ़कर चौक जाएंगे

जींस में इस छोटे पॉकेट की शुरुआत सबसे पहले लेवी स्ट्रॉस नाम की कंपनी ने की थी जो आज लेवाइस (Lewis) के नाम से जानी जाती है। तब से लेकर आज तक हमारी जींस में छोटी पॉकेट है। हम सभी जींस में जिसे छोटे पॉकेट के नाम से जानते हैं उसका असल में नाम (Watch Pocket) वॉच पॉकेट है। इसे काउ बॉयज (Cowboys) के लिए खासतौर पर तैयार किया गया था। ये पॉकेट मुख्य रूप से घड़ी रखने के लिए बनाई गई थी। इसका इतिहास 1879 से जुड़ा हुआ है। कहा जाता है कि 18वीं सदी में काउ बॉयज चेन वाली घड़ियां (Watches with Chains) रखा करते थे और तभी से लेवाइस कंपनी ने जींस में छोटी जेब बनाना शुरु कर कियाए ताकि काउ बॉयज इसमें अपनी घड़ी रख सकें। इसके अलावा ऐसा भी कहा जाता है कि इस छोटी सी जेब में घड़ी रखने से गिरने का डर नहीं रहता था और ना ही पॉकेट में रखी दूसरी चीजों से इसमें स्क्रैच लगने का डर था। इसलिए ही जेब के अंदर एक छोटी जेब बना दी गई।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है