Covid-19 Update

2, 43, 365
मामले (हिमाचल)
2, 28, 454
मरीज ठीक हुए
3874*
मौत
37,380,253
मामले (भारत)
328,826,023
मामले (दुनिया)

मुंह से भाप निकलना या नहीं निकलना सब साइंस है, यहां समझिए इसे

सर्दियों में तापमान कम होने और शरीर का टेंपरेचर ज्यादा होने से निकलती है भाप

मुंह से भाप निकलना या नहीं निकलना सब साइंस है, यहां समझिए इसे

- Advertisement -

बचपन में आपने अपने मुंह से भाप निकाल कर दोस्तों (Friends) के साथ खूब मजा किया होगा, लेकिन आपने कभी यह सोचा है कि यह यह भाप सर्दियों (Winter) में ही क्यों निकलती है, गर्मियों में क्यों नहीं। हम सब यह तो जानते हैं कि सांस लेते समय हम ऑक्सीजन (Oxygen) लेते हैं और कार्बन डाईऑक्साइड छोड़ते हैं। पर आपको यह पता नहीं होगा कि सांस छोड़ते समय हमारे फेफड़ों से कार्बन डाईऑक्साइड (Carbon Dioxide) के अलावा नाइट्रोजन, थोड़ी मात्रा में ऑक्सीजन, ऑर्गन और थोड़ी नमी भी शामिल होती है। अब आपका सवाल यह होगा कि यह नमी कहां से आती है। तो हम आपको बताते हैं कि यह नमी हमारे मुंह और फेफड़ों से आती है। इसी के कारण हमारे फेफड़े नम और मुंह गीले होते हैं। जब हम सांस छोड़ते हैं तो थोड़ी नमी भी भाप के रूप में बाहर निकलती है। आइए हम आपको पूरी प्रक्रिया बताते हैं। हमारे शरीर (Body) का औसतन तापमान 36.37 डिग्री सेल्सियस होता है और सर्दियों में बाहर का तापमान इससे काफी कम होता है। ऐसे में जब हम बाहर सांस छोड़ते हैंए तब शरीर से निकलने वाली नमी के अणुओं की ऊर्जा तेजी से कम होने लगती है और वे पास आ जाते हैं। ऐसे में ये भाप द्रव या ठोस अवस्था में बदलने लगते हैं और ऐसे में हमारे मुंह से भाप निकलता दिखता है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: सोलंगनाला में अचानक हुई बर्फबारी में फंसे सैंकड़ों पर्यटक वाहन, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

साइंस (science)के अनुसार जहां टेंपरेचर शून्य या उससे नीचे चला जाता हैए वहां मुंह से निकलने वाली भाप बर्फ (Ice) में बदलने लगती है। अब हम आपको बताते है कि गर्मियों में मुंह से भाप क्यों नहीं निकलती है। गर्मियों (Summer) में बाहर का तापमान हमारे शारीरिक तापमान से कम नहीं होता। ऐसे में तब नमी शरीर से बाहर निकलती है तो इसके अणुओं की गतिज ऊर्जा कम नहीं होती है और वे दूर-दूर ही रहते हैं। यानी ये नमी गैसीय अवस्था में ही रहती है। इसी वजह से ये नमी, भाप या पानी की बूंदों में नहीं बदल पाते। वैसे आपने यह भी गौर किया होगा कि सर्दियों में भी जिस माहौल या जगह टेंपरेचर आपके शरीर की तुलना में काफी कम नहीं होता, वहां भी हमारे मुंह से भाप नहीं निकलते हैं। जैसे कि बंद घरों में या फिर छत पर धूप होने के दौरान। वहींए उसी छत पर रात के दौरान जब टेंपरेचर काफी नीचे चला आता है तो हमारे मुंह से फिर से भाप निकलने लगता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है