Covid-19 Update

2,18,523
मामले (हिमाचल)
2,13,124
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,694,940
मामले (भारत)
232,779,878
मामले (दुनिया)

Suicide करने के लिए नदी में कूड़ा था युवक; 3 दिन तक भूखा-प्यासा जंगली झाड़ियों के बीच फंसा रहा

Suicide करने के लिए नदी में कूड़ा था युवक; 3 दिन तक भूखा-प्यासा जंगली झाड़ियों के बीच फंसा रहा

- Advertisement -

अहमदाबाद। देश भर में आए दिन लोग तमाम कारणों के चलते सुसाइड कर लेते हैं। इस सब के बीच गुजरात के अहमदाबाद (Ahmedabad) से एक बड़ा ही अनोखा मामला सामने आया है। यहां पर रहने वाले एक युवक ने साबरमती नदी में सुसाइड (Suicide) करने के लिए छलांग लगा दी लेकिन उस दिन और वक्त माउट ना नियत होने के चलते वो नदी के किनारे लगी जंगली झाड़ियों में फंस गया। अब युवक ने इन झाड़ियों के बीच से खुद को निकालने का प्रयास तो किया लेकिन सफल नहीं हो सका, जिसके कारण उसे तीन दिनों तक उन्हीं झाड़ियों में भूखे-प्यासे फंसे रहना पड़ा। इसके बाद जब एक मछुआरे की नजर उस पर पड़ी तो उसने फायर ब्रिगेड को इसकी सूचना दी। इसके बाद बड़ी मशक्कत के बाद युवक को उन जंगली झाड़ियों से रेसक्यू किया गया।

लोगों ने झाड़ियों में फंसे देखा था लेकिन इस वजह से किया नजरंदाज

फायर ब्रिगेड ने युवक को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवा दिया है। अब उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है। जानकारी के अनुसार, इस व्यक्ति की मानसिक हालत ठीक नहीं है। उसे पहले भी कई बार आसपास घूमते देखा गया था। वहीं, जब वह नदी में झाड़ियों के बीच फंसा हुआ था, तो लोगों ने उसे मछुआरा समझकर नजर अंदाज कर दिया था। लोगों ने तीन दिन पहले यहीं फंसे हुए देखा था। इसी तरह कई लोग देखकर आते-जाते रहे। लेकिन, आज एक मछुआरे की नजर इस पर पड़ी तो उसे शक हुआ कि ऐसी खतरनाक जगह जाकर कोई मछली क्यों पकड़ेगा। पूछताछ में युवक ने अपना नाम त्रिलोक नकुम बताया है।

यह भी पढ़ें: भारी बारिश से मझाड़ा River उफान पर, रौद्र रूप देख दहशत में ग्रामीण- कटा संपर्क

जब उससे नदी में कूदने के बारे में पूछा गया तो उसने कहा कि वह जान देने के लिए रविवार की शाम को साबरमती नदी में कूदा था, लेकिन झाड़ियों में फंसा रहा गया। पुलिस की इस मामले की जांच करेगी व्यक्ति के आत्महत्या की कोशिश के कारण की पुलिस जांच करेगी। अभी इस व्यक्ति के बारें में ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। पुलिस परिजनों की तलाश कर पूछताछ करेगी साथ ही मानसिक हालात खराब होने की स्थिति में इलाज कराया जाएगा। जिससे आगे इस तरह की घटना से बचाया जा सके।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है