Covid-19 Update

3,12, 174
मामले (हिमाचल)
3, 07, 798
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44, 579, 088
मामले (भारत)
621, 406, 269
मामले (दुनिया)

बिक्रम सिंह बोले: सभी प्रकार के वाहनों की चार्जिंग को एक समान पोर्ट निर्मित करें कंपनियां

बेंगलुरू में आयोजित विकास मंथन कार्यक्रम के विशेष काउंसिल की बैठक में लिया हिस्सा

बिक्रम सिंह बोले: सभी प्रकार के वाहनों की चार्जिंग को एक समान पोर्ट निर्मित करें कंपनियां

- Advertisement -

शिमला। उद्योग मंत्री बिक्रम (Bikram Singh) सिंह ने शुक्रवार को बेंगलुरू में केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा आयोजित विकास मंथन कार्यक्रम के दूसरे दिन विशेष काउंसिल की बैठक में हिस्सा लिया। इस बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय सड़कए परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने की। परिवहन मंत्री बिक्रम ठाकुर ने केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री से विद्युत वाहन निर्माता कंपनियों को सभी विद्युत वाहनों को चार्ज करने के लिए एक ही प्रकार के चार्जिंग स्टेशन अर्थात एक ही प्रकार की चार्जिंग प्रणाली विकसित (Charging System Developed) करने के लिए निर्देश देने आग्रह किया।

यह भी पढ़ेंः सुजानपुर में बोले सीएम जयराम: धूमल के आशीर्वाद से बदलेंगे रिवाज, कांग्रेस पर भी कसे तंज

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार विद्युत वाहनों को अपनाने के लिए शिमला, बद्दी, मंडी और धर्मशाला को आदर्श शहर घोषित करने की दिशा में कार्य करेगी। सरकार द्वारा वाहनों में वाहन ट्रैकिंग सिस्टम (Tracking System) लगाने के लिए युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हिमाचल पथ परिवहन निगम द्वारा 100 से अधिक विद्युत चालित बसें (Electric Buses) चलाई जा रही हैं तथा भविष्य में इनकी संख्या और अधिक बढ़ाने की योजना है।

परिवहन मंत्री ने कहा कि प्रदेश में बैटरी चालित विद्युत वाहनों को अपनाने में तेज़ी लाने के लिए दक्षता से प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश सरकार हिमाचल को विद्युत गतिशीलता, विकास और विद्युत वाहनों के निर्माण का एक वैश्विक केंद्र बनाने पर विचार कर रही है। बिक्रम सिंह ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। सरकार द्वारा पर्यावरण के अनुकूल प्रदूषण मुक्त विद्युत संचालित और लागत प्रभावी अभिनव वैकल्पिक परिवहन व्यवस्था के लिए नवोन्मेष प्रयास किए जा रहे हैं।

परिवहन मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने रोप-वे के विकास के लिए 26 अप्रैल, 2022 को भारत सरकार के साथ समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर (MOU Sign) किए हैं और पर्वतमाला योजना के तहत 60.6 किलोमीटर के लिए 2964 करोड़ लागत की 7 रोप-वे परियोजनाएं विकसित करने के लिए भारत सरकार के समक्ष प्रस्तुत की हैं। उन्होंने केन्द्र सरकार से इन योजनाओं को शीघ्र शुरू करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने का आग्रह किया। उन्होंने शिमला रोप-वे परियोजना को सैद्धान्तिक मंजूरी प्रदान करने के लिए केन्द्र सरकार का आभार व्यक्त किया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है