Covid-19 Update

3,08, 133
मामले (हिमाचल)
301, 551
मरीज ठीक हुए
4166
मौत
44,286,256
मामले (भारत)
597,184,669
मामले (दुनिया)

सोशल मीडिया पर आपके बच्चे भी सुरक्षित नहीं, बचाने के लिए कंपनियां कर सकती हैं हस्तक्षेप

फोन या उपकरण पर संदिग्ध गतिविधि पर नजर रखने के लिए काम करेगी क्लाइंट साइड स्कैनिंग टेक्नोलॉजी

सोशल मीडिया पर आपके बच्चे भी सुरक्षित नहीं, बचाने के लिए कंपनियां कर सकती हैं हस्तक्षेप

- Advertisement -

मोबाइल फोन जहां आजकल सुविधा दे रहा है, वहीं सिरदर्द भी बन चुका है। सोशल मीडिया का क्रेज हो चुका है। बूढ़े, जवान और यहां बच्चे इसके अडिक्टेड हैं। ऐसे में पेरेंट्स (parents) की जिम्मेदारी बन जाती है कि वे अपने बच्चे पर निगरानी रखें कि कहीं उनके बच्चे सोशल मीडिया पर एक्टिव होकर कहीं गलत राह पर तो नहीं जा रहे। कहीं वे ऑनलाइन के जरिए अश्लील कंटेंट्स हानिकारक ग्राफिक्स और वेबसाइटों (websites) की ओर अग्रसर तो नहीं हो रहे। ऐसे में बच्चे साइबर बुलिंग का भी शिकार हो सकते हैं। ऐसे में वे क्या तरीके हैं जिनसे बच्चों को बचाया जा सके।

यह भी पढ़ें- इस कंपनी के साथ BSNL कंपनी होगी मर्ज, अब हर गांव में होगी मोबाइल कनेक्टिविटी

इस बारे में ब्रिटेन की खुफिया एवं सुरक्षा संगठन और राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा केंद्र,(National Cyber Security Center) फेसबुक, एपल जैसी कंपनियों का हस्तक्षेप जरूरी है। साइबर सुरक्षा एंजेंसियां चाहती हैं कि इस दिशा में एपल कंपनियां संदिग्ध गतिविधियों (suspicious activities) की लगातार निगरानी करें। ऐसा करना प्राइवेसी पर हमला नहीं कहा जा सकता। टेक कंपनियों को विवादास्पद के साथ आगे आना चाहिए। यह बात जीसीक्यू और एनसीएससी के तकनीकी प्रमुखों ने कही है। उन्होंने कहा कि ऐसी तकनीकें बाल शोषण की तस्वीरों को स्कैन कर लेती हैं। ऐसी दशा में फेसबुक या एपल जैसी कंपनियां इसे रोकने के लिए सेवा प्रदाता के रूप में शामिल होंगे।

हालांकि ये कंपनियां इस सुविधा को प्रदान करने में आनाकानी कर रही हैं। मगर इससे केंद्रीयकृत सर्वर के माध्यम से मैसेज कंटेंट को बिना भेजे यूजर्स के फोन या उपकरण में किसी भी संदिग्ध गतिविधि की निगरानी की जा सकती है। इससे किसी यूजर्स के डाटा या प्राइवेसी से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती।विशेषज्ञों का मानना है कि क्लाइंट साइड साइड पूरी तरह से सुरक्षित है। इस संबंध में एनसीएससी के तकनीकी निदेशक इयान लेवी (Ian Levy) और जीसीएचक्यू के तकनीकी निदेशक क्रिस्पिन रॉबिन्सन (Crispin Robinson) ने कहा कि यह टेक्नोलॉजी पूरी तरह से सुरक्षित है। हमें ऐसा कोई कारण नहीं दिखता कि क्लाइंट साइड स्कैनिंग को तकनीकों को सुरक्षित रूप से लागू नहीं किया जा सकता है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है