Covid-19 Update

1,99,467
मामले (हिमाचल)
1,92,819
मरीज ठीक हुए
3,404
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

हिमाचल में Corona curfew बढ़ाने और शादियों को लेकर क्या बोले जयराम- जानिए

जयराम ठाकुर ने होम आइसोलेशन किट और कोविड केयर मोबाइल ऐप का किया लोकार्पण

हिमाचल में Corona curfew बढ़ाने और शादियों को लेकर क्या बोले जयराम- जानिए

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल में 26 मई सुबह 6 बजे तक कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) लगाया गया है। इस आगे बढ़ाने को लेकर सरकार 24 मई को कैबिनेट (Cabinet) में इसके बारे चर्चा करेगी। यह जानकारी सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने होम आइसोलेशन किट और कोविड केयर मोबाइल ऐप का लोकार्पण के बाद मीडिया से बातचीत में दी। उन्होंने कहा कि अभी 26 मई तक कोरोना कर्फ्यू लगाया गया है। कोरोना कर्फ्यू को बढ़ाने पर 24 की कैबिनेट बैठक में चर्चा होगी और विचार किया जाएगा। उसके बाद अगला निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने लोगों ने आह्वान किया है कि शादियों का दौर फिर शुरू हो रहा है। लोग शादियां छोटी करें। इसके अलावा अन्य आयोजनों को फिलहाल के लिए टाल दें। उन्होंने कहा कि कोरोना दौर समाप्त होने के बाद धार्मिक आस्थाओं को कायम रखें। यह दौर समाप्त होने के बाद देवी देवताओं को घर लाने आदि धार्मिक आयोजन किए जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Himachal: अभी कोरोना रिकवरी रेट 83 फीसदी के करीब, आज 440 केस-4,652 ठीक

 


सीएम जयराम ठाकुर ने शिमला (Shimla) के पीटरहॉफ से होम आइसोलेशन किट और कोविड केयर मोबाइल ऐप (Home isolation kit ) का लोकार्पण किया। उन्होंने लोगों को चतावनी देते हुए कहा कि कोरोना की दूसरी लहर का पीक पर आना अभी बाकी है। मामले और बढ़ सकते हैं, हम इस आशंका से इंकार नहीं कर सकते। सीएम जयराम ठाकुर ने आज होम आइसोलेशन किट और कोविड केयर मोबाइल ऐप (covid care mobile app) का लोकार्पण किया। उन्होंने ऑनलाइन परामर्श तथा उपचार के लिए बिलासपुर स्थित एम्स के साथ लोगों को जोड़ने के लिए हिमाचल कोविड केयर एप्लीकेशन तथा ई-संजीवनी ओपीडी (E-Sanjeevani OPD) का भी शुभारंभ भी किया। उन्होंने प्रदेश के विभिन्न भागों के लिए होम आइसोलेशन किट के 11 वाहनों को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

यह भी पढ़ें: Black Fungus: क्या हैं लक्षण और कैसे करें बचाव- किसको ज्यादा खतरा- जानिए

उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन किट कोरोना मरीजों का हौसला बढ़ाने के लिए दी जा रही है। इस किट में बुकलेट, थर्मामीटर, मास्क, दवाएं, मागदर्शक पुस्तिका, आयुर्वेद और विटामिन आदि की दवाएं हैं। उन्होंने बताया कि विधायक इन किटों को उन सभी मरीजों तक पहुंचाएंगे जो घर में इलाज कर रहे हैं। वहीं जयराम ठाकुर ने होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों के लिए एक मोबाइल ऐप भी शुरू की। जिसमें उन मरीजों के उपचार की निगरानी रखी जाएगी। सीएम जयराम ठाकुर ने एम्स बिलासपुर की ई संजीवनी ओपीडी का भी लोकार्पण किया। इससे लोग ऑनलाइन परामर्श (Online counseling) ले सकेंगे। स्वास्थ्य सचिव ओंकार अवस्थी ने इसको लेकर विस्तृत आंकड़े पेश किए। जय राम ठाकुर ने कहा कि ई-संजीवनी ओपीडी रोगियों तथा चिकित्सकों के मध्य प्रभावी संचार सुनिश्चित करेगी तथा उन्हें विशेषज्ञों से उचित सलाह लेने के लिए सक्ष्म बनाएगी। उन्होंने कहा कि कोविड केयर ऐप आइसोलेशन में रह रहे रोगियों की निगरानी के लिए एक प्रभावी व्यवस्था प्रदान करेगी।

 

स्वास्थ्य विभाग में तीन हजार से ज्यादा की भर्तियां

जय राम ठाकुर ने कहा कि रोगियों के उचित उपचार के लिए स्वास्थ्य संस्थानों में पर्याप्त स्टाफ सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग में 3100 नई भर्तियां की गई हैं। प्रदेश सरकार ने केंद्र सरकार से प्रदेश के लिए ऑक्सीजन कोटे में 10 मीट्रिक टन की वृद्धि करने का मामला भी उठाया है। हिमाचल प्रदेश देश के राज्यों में पहला ऐसा प्रदेश है जहां वैक्सीन की वेस्टेज की प्रतिशतता शून्य है। प्रदेश के लोगों को लगभग 22.52 लाख वैक्सीन लगाई गई है तथा प्रदेश सरकार ने सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को 72 लाख वैक्सीन का ऑर्डर दिया है।

अनाथ हुए बच्चों को प्रतिमाह 2500 देने का लिया निर्णय

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण माता-पिता की मृत्यु के बाद अनाथ हुए बच्चों को प्रति बच्चा 2500 रुपये प्रतिमाह प्रदान करने का निर्णय लिया है। प्रदेश सरकार ऐसे बच्चों की शिक्षा पर होने वाले व्यय को भी वहन करेगी। प्रदेश सरकार ने कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के मृत शरीर को उनके पैतृक स्थान पहुंचाने के वाहन खर्च को वहन करने के साथ-साथ अंतिम संस्कार के लिए निःशुल्क लकड़ी प्रदान करने का भी निर्णय लिया है।

सीएम जयराम ने कहा कि प्रदेश सरकार विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में जुखाम जैसे लक्षणों वाले रोगियों को चिन्हित करने के लिए एक विशेष अभियान आरंभ करने की योजना भी बना रही है ताकि उनकी शीघ्र जांच की जा सके। उन्होंने विधायकोंए पंचायती राज संस्थाओं तथा शहरी स्थानीय निकायों के प्रतिनिधियोंए आशा कार्यकर्ताओं तथा अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं से ऐसे रोगियों को चिन्हित करने के लिए आगे आने का आग्रह किया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है