Covid-19 Update

2,62,087
मामले (हिमाचल)
2, 42, 589
मरीज ठीक हुए
3927*
मौत
39,543,328
मामले (भारत)
352,920,702
मामले (दुनिया)

हाथी-चीटीं के जोक्स तो सुने होंगे, पर क्या ये सच्चाई आपको पता है

क्या आप जानते हैं कि चीटीं के भी दांत होते हैं

हाथी-चीटीं के जोक्स तो सुने होंगे, पर क्या ये सच्चाई आपको पता है

- Advertisement -

नई दिल्ली। चीटीं काफी छोटा जीव है और इस जीव से जुड़े कई ऐसे तथ्य हैं, जो वाकई हैरान कर देते हैं। हाथी और चीटी की जोक पर लोग भले ही ठहाके लगाते हों, लेकिन चीटीं से जुड़ी ये बात काफी रोचक है। लोग सोचते हैं कि चीटीं इतनी छोटी है तो इसके दांत नहीं होते होंगे, मगर ऐसा बिल्कुल नहीं है। चींटी के भी कई दांत होते हैं और उसके दांत में काफी ताकत भी होती है।

छोटी सी दिखने वाली चींटी के मुंह में कई दांत होते हैं। खास बात ये है कि कई सारे दांत होते हैं। ये बहुत छोटे होते हैं। यहीं नहीं चींटी के शरीर में पूरा जबड़ा होता है। कहा जाता है कि ये दांत इंसान के बाल जितने पतले होते हैं, लेकिन तीखे तो इंसानी दांत से भी ज्यादा होते हैं। जिन चीजों को इंसानी दांत नहीं काट पाते हैं, उन्हें चींटी के दांत आसानी से काट देते हैं। एक शोध पत्रिका साइंटिफिक रिपोर्ट्स में सामने आया है कि चींटियों के चॉपर्स मानव त्वचा को भी आसानी से काट सकते हैं, जबकि इंसानी दांतों के लिए ऐसा करना मुश्किल है।ऐसे ही चींटी के दांत स्किन तक को भी काट देते हैं, लेकिन इंसानी दांत ऐसा नहीं कर पाते हैं, इसलिए ये काफी खतरनाक होते हैं।

यह भी पढ़ें: कान में सुनाई देती है सीटी की आवाज, ना करें इग्नोर, हो सकती है ये बड़ी बीमारी

दुनिया की सबसे खतरनाक चींटी?

दुनिया की सबसे खतरनाक चींटी Bulldog Ant है. ये ऑस्ट्रेलिया के तटीय क्षेत्रों में पाई जाती है। ये चींटिया अपने शिकार के लिए ज्यादातर रात के समय बाहर आती है। इस चींटी की विशेषता यह है कि हमले के लिए यह अपने जबड़े का इस्तेमाल करती है। इस चींटी को दुनिया की सबसे खतरनाक चींटी कहा जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि बुलडॉग चीटियों का आकार 1 इंच से भी कम होता है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है