हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017

BJP

44

INC

21

अन्य

3

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

हिमाचल की बेटी ईशानी ने कर डाला कमाल माउंट चो ओयू पीक की फतह

दुनिया की पहली महिला बनी ईशानी जिसने की यह पीक फतह

हिमाचल की बेटी ईशानी ने कर डाला कमाल माउंट चो ओयू पीक की फतह

- Advertisement -

कुल्लू । ईशानी सिंह जंबाल (Ishani Singh Jamwal) पहली भारतीय महिला (First Indian Woman) बन गई हैं जिन्होंने माउंट चो ओयू पीक (Mount Cho Oyu Peak) को फतह किया है। यह पीक नेपाल और चीन (Nepal and China) के मध्य है। दक्षिण की ओर से दुनिया की छठी सबसे ऊंची व कठिन चोटी पर 7200 मीटर की ऊंचाई तक ईशानी पहुंच गई। माउंट चो ओयू के अत्यंत चुनौतीपूर्ण दक्षिण की ओर की अधिकतम ऊंचाई तक पहुंचने के लिए वह दुनिया भर के पर्वतारोहियों में एकमात्र महिला बन गई है। ईशानी ने कहा कि वह खुद को चुनौती देने और देश के लिए अपने शिखर पर चढ़ने में सक्षम थी। ईशानी ने अपने माता-पिता, प्रशिक्षकों, आकाओं और विशेष रूप से अपने प्रायोजकों का आभार प्रकट किया है, जिसके कारण यह अभियान संभव हो सका।

यह भी पढ़ें- जानिए कहां है दस हजार फीट ऊंचाई पर बनी लहराती हुई खतरनाक सड़क

ईशानी ने कहा कि उसका उद्देश्य पर्वतारोहण (Mountaineering) को एक साहसिक कार्य के रूप में बढ़ावा देना है और साथ ही सरकार से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय अभियानों के लिए पर्वतारोहियों को आर्थिक रूप से समर्थन देने का अनुरोध किया है। गौर रहे कि ईशानी जंबाल जिला कुल्लू की रहने वाली है। जिला कुल्लू के पाहनाला (Pahnala in district Kullu) की रहने वाली ईशानी जंबाल आज दुनिया के लिए प्रेरणा की स्त्रोत बन गई हैं। इस पीक (Peak) को फतह कर ईशानी ने प्रदेश व देश का नाम दुनिया भर में ऊंचा किया है।

ईशानी के पिता शक्ति सिंह व माता नलिनी जंबाल ने कहा कि उन्हें अपनी बेटी पर गर्व है और उन्होंने सरकार से अपील की है कि इस तरह के साहसिक बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए। इससे पहले ईशानी ने लेह-लद्दाख की पीक कुन (Peak Kun in Leh-Ladakh) पर भी फतह हासिल की है। ईशानी ने खास तौर पर शिव नादर फाउंडेशन (Shiv Nadar Foundation) का आभार व्यक्त किया है जिन्होंने उन्हें इस कार्य के लिए स्पॉन्सरशिप दी। ईशानी ने बताया कि बहुत ही कठिन स्थिति थी और इस बार वायु की दिशा भी ठीक नहीं थी बावजूद इसके 7200 मीटर तक चढ़ने में कामयाबी मिली यदि परिस्थिति ठीक होती तो 8000 मीटर तक कामयाबी मिल जानी थी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है