Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

इस महीने से घट जाएगी आपकी इन हैंड सैलरी, EPF योगदान में वापस ली जाएगी ये छूट

इस महीने से घट जाएगी आपकी इन हैंड सैलरी, EPF योगदान में वापस ली जाएगी ये छूट

- Advertisement -

नई दिल्ली। देशभर में फैले कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार ने Atma Nirbhar Bharat package के तहत नौकरीपेशा लोगों के पीएफ को लेकर बड़ा ऐलान किया था। जिसके तहत तीन महीनों के लिए EPF का मंथली कॉन्ट्रिब्यूशन 24 फीसदी से घटाकर 20 फीसदी कर दिया था। वहीं, अब यह अवधि समाप्त हो गई है और अगस्त महीने की शुरुआत हो चुकी है। इस नए महीने में कई नियम बदल चुके हैं। अब फिर से कर्मचारी व नियोक्ता को 12-12 फीसद पीएफ योगदान देना होगा। इस बदलाव की वजह से अगस्त महीने में आपकी टेक होम सैलरी कम आएगी। आइए एक बार इस पूरे मामले को विस्तार से समझें: –

6.5 लाख कंपनियों के कर्मचारियों मिल रहा था फायदा

कोरोना संकट की वजह से सरकार ने पीएफ से जुड़े कुछ नियम बदले थे। इसमें एक नियम पीएफ कंट्रीब्‍यूशन का था। नए नियम के तहत पीएफ योगदान को 12 फीसदी से घटाकर 10 फीसदी कर दिया गया था ताकि कर्मचारियों की टेक होम सैलरी 2 फीसदी तक बढ़ जाए। इसके परिणामस्वरूप करीब 6.5 लाख कंपनियों के कर्मचारियों को हर महीने 2,250 करोड़ रुपए की लिक्विडिटी का फायदा मिला। नियम के अनुसार, कर्चमारी और नियोक्ता को मिलकर कर्मचारी की बेसिक सैलरी+डीए का 12-12 फीसद अर्थात कुल 24 फीसद राशि हर महीने पीएफ योगदान के रूप में जमा करानी होती है।

यह भी पढ़ें: अब तक नहीं बनवाया है PAN Card: अब आप इसके बिना नहीं कर पाएंगे ये 10 काम, जानें

वित्त मंत्री की घोषणा के बाद इस योगदान में तीन महीने तक कुल 4 फीसद की छूट मिली, जिसमें 2 फीसद कर्मचारी के योगदान से और 2 फीसद नियोक्ता के योगदान से है। कोरोना वायरस संक्रमण में जब लॉकडाउन हुआ था तो लोगों को कैश की दिक्कत होने लगी थी। इस तरह की परेशानी को दूर करने के लिए सरकार ने ये कदम उठाया था। सरकार ने EPF कॉन्ट्रिब्यूशन घटाने का फैसला किया ताकि लोगों को सैलरी के तौर पर ज्यादा पैसा मिल सके। वहीं, अब इस महीने से कर्मचारियों और नियोक्ताओं दोनों को पहले की भांति ही ईपीएफ योगदान देना होगा। इस राहत उपाय की घोषणा करते हुए श्रम मंत्रालय ने यह भी कहा था कि अगर कोई चाहे तो वह इन तीन महीनों के दौरान इपीएफ में 10 फीसद से अधिक भी योगदान दे सकता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है