Covid-19 Update

2,21,942
मामले (हिमाचल)
2,16,947
मरीज ठीक हुए
3,712
मौत
34,126,682
मामले (भारत)
242,810,096
मामले (दुनिया)

इन वजहों से कमजोर हो रही हैं आपकी हड्डियां, खानपान के साथ शारीरिक व्यायाम पर दें ध्यान

तेजी से युवाओं में भी मिल रही है हड्डी के कमजोर होने की शिकायत

इन वजहों से कमजोर हो रही हैं आपकी हड्डियां, खानपान के साथ शारीरिक व्यायाम पर दें ध्यान

- Advertisement -

नई दिल्ली। कुछ सालों से ऐसा देखा जा रहा है कि 30-40 साल की उम्र में ही लोगों की हड्डियां कमजोर हो जाती है। इसका कारण सिर्फ कैल्शियम ही नहीं है, बल्कि इसके कई कारण हैं। भारत में भी ऐसे काफी मरीज हैं, जो लो-बोन मास आदि से परेशान है। डॉक्टर बताते हैं कि ऑस्टियोपोरोसिस के अधिकतर केस 70 साल के आसपास की उम्र में पाए जाते हैं, लेकिन अब युवाओं में हड्डियों से संबंधित केस की संख्या बढ़ रही है।

यह भी पढ़ें:दिन की शुरुआत के लिए इन हेल्दी ब्रेकफास्ट से बेहतर कुछ और नहीं

गौरतलब है कि हड्डियों की मजबूती में लाइफस्टाइल काफी अहम भूमिका अदा करती है और खराब लाइफस्टाइल की वजह से केस लगातार बढ़ रहे हैं। माना जाता है कि 20 से 30 साल की उम्र में हड्डियां सबसे अधिक मजबूत होती हैं। युवाओं को हड्डियों को मजबूत करने का यह सुनहरा मौका नहीं गंवाना चाहिए, जिससे भविष्य में यह समस्या ना हो। ऐसे में जानते हैं कि हड्डियों के लिए किन-किन पोषक तत्वों की आवश्यकता है। खास बात ये है कि इन पोषक तत्व में सिर्फ कैल्शियम ही नहीं है।

हड्डियों के लिए क्या है जरूरी?

डॉक्टरों का कहना है, ‘केवल कैल्शियम की वजह से हड्डियों की सेहत ठीक रहती है, यह गलतफहमी है। कैल्शियम के अलावा अन्य पोषक घटक भी हड्डियों की मजबूती और उन्हें मजबूत रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। प्रोटीन के अलावा कोलाजेन सिंथेसिस, फास्फोरस से बोन मिनिरलाइजेशन में मदद होती है। विटामिन डी से कैल्शियम एब्सॉब्शन में मदद मिलती है। शरीर की कुल मात्रा में से 60 प्रतिशत मैग्नीशियम केवल हड्डियों में ही होता है और इससे हड्डियां मजबूत होती है।’

इसके अलावा डॉक्टर ने बताया, ‘फ्लोराइड और ज़िक के कारण बोन सिंथेसिस को बढ़ावा मिलता है। इसके अलावा कॉपर, बोरॉन, मैंगनीज, पोटेशियम, आयरन और अन्य विटामिन की भी जरूरत होती है। साथ ही प्रोटीन, कैल्शियम और अन्य घटकों से युक्त सेहतमंद डाइट से अपनी स्केलेटल सिस्टम को मजबूती प्राप्त होती है। कैल्शियम से युक्त आहार जैसे दही, अंडा, दूध, फल, चीज, बीन्स और हरी सब्जियां आदि का सेवन करें। साथ ही तले हुए और मसालेदार पदार्थों का सेवन कम करें जिससे लंबे समय बाद नुकसान होने की संभावना रहती है। खाने के अलावा सेहतमंद खाने के साथ कुछ समय धूप में बिताना चाहिए, जिस से विटामिन डी की मात्रा में भी बढ़ोतरी हो।’

योग है जरूरी

आप हड्डियों के लिए जितना खाने का ध्यान रखेंगे, उतना ही आपको शारीरिक एक्टिविटी पर भी ध्यान देना होगा। डॉक्टर ने बताया, ‘नियमित रूप से व्यायाम जैसे कार्डियो या वेट ट्रेनिंग करने से हड्डियां मजबूत होने के साथ ही बोन मास डेंसिटी और मांसपेशियां मजबूत रहती हैं। कहा जाता है कि जो लोग नियमित व्यायाम करते है, उन्हें हड्डियों की बीमारियां होने का खतरा कम रहता है। हड्डियों को मजबूत करने में वेट बेअरिंग एक्सरसाइज की जरूरत होती है और रनिंग आदि से भी हड्डियों को मजबूती मिलती है।

नशे से दूर रहें लोग

डॉक्टर ने बताया, ‘धुम्रपान और अल्कोहल का सेवन ना करना हड्डियों की मजबूती के लिए जरूरी है। धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों में फ्रैक्चर होने की संभावना धूम्रपान ना करने वाले व्यक्तियों की तुलना में 32 प्रतिशत ज्यादा है। लंबे समय तक अल्कोहल के सेवन से कम मिनरल डेंसिटी और ऑस्टोस्पोरोसिस होने की अधिक संभावना होती है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है