Covid-19 Update

3,12, 188
मामले (हिमाचल)
3, 07, 820
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,583,360
मामले (भारत)
622,055,597
मामले (दुनिया)

इस घाटी से कोई नहीं लौटता वापस, वैली ऑफ डेथ के नाम से मशहूर है ये जगह

दुनिया की नजरों से छुपाना चाहती है यहां की सरकार

इस घाटी से कोई नहीं लौटता वापस, वैली ऑफ डेथ के नाम से मशहूर है ये जगह

- Advertisement -

दुनिया में बहुत सी जगहें है जो रहस्य से भरी पड़ी हैं, जिनका राज आज तक कोई भी नहीं सुलझा पाया है। कई ऐसी जगहें हैं, जहां अक्सर अजीबो-गरीब घटनाएं होती रहती हैं। ऐसी ही एक जगह रूस में है, जिसे वैली ऑफ डेथ के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि इस जगह में कई रहस्यमयी मौतें हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें:दुनिया का अनोखा झरना, हर सेकेंड निकलता है 300 लीटर पानी, वैज्ञानिकों के लिए बना रहस्य

वैली ऑफ डेथ के नाम से मशहूर ये जगह रूस के ईस्ट में स्थित है। कहा जाता है कि जो भी इस घाटी में जाता है वह जिंदा बाहर नहीं आता है। ज्वालामुखी के केंद्र इस जगह के ऊपर बिछी सफेद बर्फ की चादर देखने में बहुत सुंदर लगती है। हालांकि, यह जगह उतनी ही खतरनाक भी है। इस जगह को जानवरों का कब्रगाह कहा जाता है। रूसी सरकार ने इस जगह पर इंसानों की एंट्री पर बैन लगा रखा है। कहा जाता है कि जब इस जगह पर बर्फ पिघलती है, उस दौरान यहां कई तरह के जानवर शिकार पर निकलते हैं। हालांकि, ये शिकारी जानवर जल्द मौत के मुंह में समा जाते हैं और इन मृत जानवरों के शरीर पर चोट के निशान भी नहीं होते हैं। वहीं, अभी तक कोई जानवरों की मौत के राज का पता नहीं लगा पाया है। रूस इस घाटी के बारे में कभी चर्चा नहीं करता है। रूस की सरकार ने इस घाटी को पूरी तरह से सीक्रेट रखा हुआ है।

 

ये कहानी है प्रचलित

वैली ऑफ डेथ के बारे में कई किस्से और कहानियां प्रचलित हैं। कहा जाता है कि 20वीं सदी से पहले यह जगह लोगों की नजरों से दूर थी। 1930 में दो शिकारी इस जगह पर सबसे पहले गए थे और उन्हें यहां कई जानवरों की लाशें दिखाई दी। इतना ही नहीं, इसके कुछ देर बाद दोनों के सिर में काफी तेज दर्द होने लगा, जिसके बाद वह दोनों तुरंत वहां से भाग गए।

इतने लोगों की हुई मौत

जानकारी के अनुसार, अब तक इस घाटी में करीब 80 लोगों की मौत हो चुकी है। विशेषज्ञों का कहना है कि ज्वालामुखी से निकलने वाले खतरनाक धुएं की वजह से जानवरों और इंसानों की मौत हो जाती है। हालांकि, अभी तक इसका कोई पुख्ता सबूत नहीं मिला है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है