Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,122,986
मामले (भारत)
114,822,832
मामले (दुनिया)

Shimla: मंदिरों में लंगर और भंडारे की अनुमति, सराय भी खुलीं-चढ़ सकेगा सूखा प्रसाद

डीसी शिमला आदित्य नेगी ने जारी किए आदेश, पूजा अनुष्ठान भी हो सकेंगे

Shimla: मंदिरों में लंगर और भंडारे की अनुमति, सराय भी खुलीं-चढ़ सकेगा सूखा प्रसाद

- Advertisement -

शिमला। जिला शिमला (Shimla) के मंदिरों में श्रद्धालु आरती में भाग ले सकते हैं। साथ ही पूजा अनुष्ठान और हवन आदि करवा सकते हैं। इसके अलावा मंदिरों की सराय भी श्रद्धालुओं के लिए खुल गई हैं। लंगर और भंडारे लगाने की भी अनुमति होगी। साथ ही भक्ति गीत, विवाह और मुंडन समारोह की भी अनुमति होगी। मंदिरों में श्रद्धालु सूखा/पैकेट बंद प्रसाद चढ़ा सकते हैं। चुनरी, झंडा और सूखा नारियल चढ़ाने भी अनुमति होगी। वहीं, श्रद्धालु गर्भ गृह में जाकर दर्शन कर सकते हैं। इस बारे आज डीसी शिमला आदित्य नेगी ने आदेश जारी कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें: बसंत पंचमी पर 11 माह बाद खुल गए शक्तिपीठों के गर्भगृह, एसओपी का पालन करना जरूरी

 

Shimla temple PDF

 

बता दें कि कोरोना महामारी के चलते शिमला सहित हिमाचल के मंदिरों को श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया था। अनलॉक की स्थिति के काफी बाद तक मंदिर बंद थे। इसके बाद सरकार ने मंदिरों को खोलने की अनुमति दी, लेकिन श्रद्धालु गर्भ गृह में नहीं जा सकते थे। श्रद्धालु दूर से ही दर्शन कर सकते थे। साथ ही प्रसाद, चुनरी आदि चढ़ाने की अनुमति नहीं थी। इसके अलावा मंदिर में पूजा अनुष्ठान, हवन, लंगर (Langar) व भंडारा (Bhandara) आदि भी बंद था। अब हिमाचल में कोरोना को लेकर स्थितियां ठीक होने के बाद मंदिरों में उक्त अनुमतियां भी मिल गई हैं। हालांकि, कोविड- 19 (Covid-19) नियमों जैसे फेस मास्क (Face Mask), सोशल डिस्टेंसिंग आदि का अब भी पालन करना होगा। लंगर और भंडारों में भी ज्यादा भीड़ इकट्ठी नहीं हो सकती है। कोविड नियमों के तहत सीटिंग कैपेसिटी के अनुसार लंगर और भंडारों का आयोजन किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: श्रद्धालुओं को Youtube पर मिलेगी मां चिंतपूर्णी मंदिर के बारे जानकारी

गर्भ गृह में भी एक समय में अधिक श्रद्धालु नहीं जा सकते हैं। मंदिर प्रशासन को इस बात की सुनिश्चित करना होगा। मंदिर में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के नियमों का पालन करते हुए आरती हो सकती है। पूजा-अनुष्ठान करवाने के वक्त भी मंदिर स्टाफ और श्रद्धालुओं को मास्क पहनना अनिवार्य होगा। मंदिर परिसर और सराए में श्रद्धालुओं को ठहरने की अनुमति भी मिल गई है। मंदिरों में कोरोना से पहले की स्थितियां धीरे-धीरे बहाल हो रही हैं।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है