Covid-19 Update

3,12, 100
मामले (हिमाचल)
3, 07, 697
मरीज ठीक हुए
4188
मौत
44, 563, 337
मामले (भारत)
619, 874, 061
मामले (दुनिया)

हिमाचल: एक ऐसा पेन, जो पढ़ाने के साथ कहानी और गीत भी सुनाएगा; बच्चों की करेगा निगरानी

सिरमौर जिला में नौरंगाबाद स्कूल ने हासिल की कामयाबी, विश्व का सबसे बड़ा इंक पेन बच्चों को समर्पित

हिमाचल: एक ऐसा पेन, जो पढ़ाने के साथ कहानी और गीत भी सुनाएगा; बच्चों की करेगा निगरानी

- Advertisement -

नाहन। जिला के विधानसभा क्षेत्र नाहन के तहत धौलाकुआं के राजकीय उच्च विद्यालय नौरंगाबाद (Government High School Naurangabad) के मुख्याध्यापक संजीव अत्री ने एक अनोखा इंक पेन (Ink Pen) तैयार किया है। इस पेन की खासियत यह है कि यह पेन बच्चों को पढ़ाने के साथ साथ उन पर नजर भी रखेगा। यही नहीं खाली समय में यह पेन बच्चों को कहानी और गीत भी सुनाया करेगा। इस पेन का शुभारंभ शनिवार को स्कूल परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में नाहन के विधायक डॉ. राजीव बिंदल (MLA Dr. Rajiv Bindal) ने किया। स्कूल प्रबंधन की तरफ से दावा किया जा रहा है कि यह इंक पेन दुनिया का सबसे बड़ा पेन है। पेन को शक्ति नाम दिया गया है। इस पेन की लंबाई 20 फीट जबकि इसका वजन करीब 43 किलो है।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: सरकारी स्कूलों में दिव्यांग बच्चों को दी जा रही सुविधाएं नहीं होंगी बंद

पेन के बारे में जानकारी देते हुए मुख्याध्यापक संजीव अत्री (Headmaster Sanjeev Attri) ने बताया कि टीचिंग और लर्निंग (Teaching and Learning) करवाने वाला यह पेन साउंड सेंसर से लैस है। यदि कोई शिक्षक अगले दिन अवकाश करने वाला है, तो संबंधित अध्यापक अपना लैक्चर रिकार्ड करके मोबाइल के माध्यम से स्कूल प्रबंधन के पास भेजेगा। इसके बाद साउंड सेंसर की मदद से संबंधित रिकार्ड लेक्चर को पेन में सेंड कर दिया जाएगा। अगले दिन बच्चों को पेन के समीप बिठाकर छुट्टी पर गए शिक्षक की आवाज में पढ़ाकर सेंसर अपना काम शुरू कर देगा।

Ink-Pen

Ink-Pen

उन्होंने बताया कि संबंधित पेन से लिखा भी जा सकता है, लेकिन इसका भार अधिक होने की वजह से अकेले व्यक्ति को इसे उठाना मुश्किल है। मगर पेन को उठाकर जब कागज पर मूव किया जाएगा, तो वह लिख भी सकेगा। संजीव अत्री ने बताया कि इस इंक पेन में लगे सीसीटीवी (CCTV) की मदद से बच्चों पर निगरानी भी रखी जा सकेगी। खाली पीरियड में पेन बच्चों को कहानी (Story) भी सुनाएगा। बच्चे गीत भी सुन सकेंगे। पेन तैयार करने में तकरीबन 45ए000 रुपए लागत आई हैए जिसे स्कूल के 6 शिक्षकों ने अपने स्तर पर वहन किया है।

राजीव बिंदल ने दी बधाई

पेन के शुभारंभ अवसर पर विधायक डॉ. राजीव बिंदल ने कहा कि यह अनोखा डिजीटल पेन स्थापित कर नौरंगाबाद स्कूल के अध्यापकों ने ऐसा कार्य किया है, जो बड़े-बड़े व प्राइवेट स्कूलों में भी संभव नहीं हो सका। उन्होंने पेन को तैयार करने वाले मुख्याध्यापक संजीव अत्री व उनकी टीम को इस कार्य के लिए बधाई दी। साथ ही यहां के बच्चे भी बधाई के पात्र है, जिन्हें इस तरह का पेन उपलब्ध हुआ है।

मुख्याध्यापक का दावा विश्व का सबसे बड़ा इंक पेन होगा

वहीं नौरंगाबाद स्कूल के मुख्याध्यापक संजीव अत्री ने दावा किया कि यह विश्व का सबसे बड़ा इंक पेन (World Largest Ink Pen) होगा, क्योंकि इससे पहले देश में 38 किलो वजन व 18 फीट लंबा बॉल पेन तैयार किया गया है। उन्होंने बताया कि स्कूल परिसर में स्थापित किया गया यह इंक पेन 20 फीट लंबा पेन है। इस पेन का वजन करीब 43 किलो है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है