Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,526,589
मामले (भारत)
196,267,832
मामले (दुनिया)
×

पहले ही दिन छात्र नहीं लांघ पाए School की दहलीज, कुछ 3 किमी पैदल चले- जाने मामला

कोरोना संकट के बीच स्कूल तो निकले छात्र पर, बस स्टैंड से ही पड़ा लौटना

पहले ही दिन छात्र नहीं लांघ पाए School की दहलीज, कुछ 3 किमी पैदल चले- जाने मामला

- Advertisement -

मंडी। कोरोना (Corona) संकट के बीच आज स्कूल (School) तो खुले, लेकिन मंडी जिला के बल्ह उपमंडल के झोर के छात्र चाहते हुए भी स्कूल नहीं पहुंच पाए। लंबे अरसे के बाद स्कूल खुलने से उत्साहित छात्रों के हाथ पहले ही दिन मायूसी ही लगी। इसका कारण एचआरटीसी की बस (HRTC Bus) का ना आना रहा। हालांकि कुछ छात्र तीन किलोमीटर का पैदल सफर तय कर कपाही से दूसरी बस में बैठकर स्कूल पहुंचे। उधर, एचआरटीसी सुंदरनगर (HRTC Sundernagar) के आरएम विनोद ठाकुर की माने तो स्कूल खुलने को लेकर कार्यालय में अधिसूचना प्राप्त नहीं हुई है। कल से स्कूलों की समयसारिणी के अनुसार बसों को भेजा जाएगा।

यह भी पढ़ें: #Himachal में आज से खुल गए स्कूल, सोशल डिस्टेंसिग के साथ चल रही कक्षाएं

 


 

मामला बल्ह उपमंडल की ग्राम पंचायत लुहाखर का है, जहां सोमवार को सुबह 8 बजे झोर से सुंदरनगर के लिए एचआरटीसी के द्वारा बस नहीं भेजी गई। इस कारण काफी देर बस का इंतजार करने के बाद छात्रों को घरों को लौटना पड़ा। वहीं कुछ बच्चे लगभग 3 किलोमीटर का सफर पैदल तय कर कपाही तक पहुंचे और कपाही से सुंदरनगर के लिए दूसरी बस में बैठकर अपने स्कूल पहुंचे। बता दें कि आज से 5वीं और 8वीं से 12वीं तक के स्कूल खुल गए हैं। दूसरी तरफ कोरोना की वजह से बहुत सारे बसों के रूट बंद कर दिए गए थे, लेकिन अब शिक्षा विभाग (Education Department) द्वारा स्कूलों को दोबारा शुरू करवाने के साथ-साथ उन सभी रूट के ऊपर बच्चों के लिए बसों की मांग बढ़ गई है। क्षेत्र में प्राइवेट स्कूलों के लिए तो स्कूलों की बसें चलती हैं, लेकिन सरकारी स्कूलों के लिए एकमात्र सहारा एचआरटीसी ही है।

यह भी पढ़ें: Himachal: स्कूल खुलने से पहले टीचरों के कोरोना पॉजिटिव आने का सिलसिला जारी- अब 16 संक्रमित

 

उप प्रधान ग्राम पंचायत लुहाखर यशवंत ने कहा कि स्कूल खुलने के निर्णय के बाद क्षेत्रीय प्रबंधक सुंदरनगर से बात की गई थी और साथ ही ई-मेल के माध्यम से भी मांग उनको भेजी थी। उन्होंने कहा कि मामले को लेकर एक फरवरी से जैसे स्कूल शुरू होने पर बस सुचारू रूप से चलना शुरू होने का आश्वासन दिया गया था, लेकिन बस नहीं आने के कारण बच्चे (Student) पैदल ही झोर से कपाही पहुंच गए और कपाही से सुंदरनगर के लिए दूसरी बस लेना पड़ी। उन्होंने कहा कि कुछ बच्चे निराश घर को लौट आए, इससे अभिभावकों में भारी आक्रोश है।

 

झोर गांव से सुंदरनगर में जमा दो कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा अनामिका ने कहा कि झोर के लिए सुबह 8 बजे वाली बस नहीं आई है, जिस कारण स्कूल खुलने के पहले ही दिन परेशान होना पड़ा। रहा है। स्कूल के लिए लेट हो जाने के कारण घर वापस जाना पड़ा। हिमाचल पथ परिवहन निगम डिपू सुंदरनगर के आरएम विनोद ठाकुर ने कहा कि सोमवार को सुबह 8 बजे के समय पर बस नहीं भेजी गई थी। उन्होंने कहा कि स्कूल खुलने को लेकर कार्यालय में अधिसूचना प्राप्त नहीं हुई है। कल से स्कूलों की समयसारिणी के अनुसार बसों को भेजा जा रहा है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है