Covid-19 Update

2,18,202
मामले (हिमाचल)
2,12,736
मरीज ठीक हुए
3,650
मौत
33,650,778
मामले (भारत)
232,110,407
मामले (दुनिया)

#Uttarakhand जल प्रलय : 10 शव बरामद, 100 से ज्यादा के मरने की आशंका; पढ़े हादसे की Timeline

टनल में कुछ लोगों के फंसे होने की आशंका, लगातार जारी है राहत बचाव कार्य

#Uttarakhand जल प्रलय : 10 शव बरामद, 100 से ज्यादा के मरने की आशंका; पढ़े हादसे की Timeline

- Advertisement -

चमोली । उत्तराखंड के चमोली (Chamoli) जिला में ग्लेशियर (Glacier) टूटने के बाद बांध टूटने से भारी तबाही हुई। बाढ़ के कारण ऋषि गंगा और तपोवन हाईड्रो प्रोजेक्ट (Rishi Ganga and Tapovan Hydro Project) पूरी तरह तबाह हो गए हैं। बताया जा रहा है कि जिस समय यह जलप्रलय हुआ उस प्रोजेक्ट में करीब 150 लोग काम कर रहे थे। ऋषि गंगा प्रोजेक्ट को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। यहां एनटीसीपी (NTPC) के प्रोजेक्ट से करीब दस शव बरामद (Ten Deadbodies Recovered)भी कर लिए गए हैं। उत्तराखंड (Uttarakhand) के चमोली में मची इस तबाही पर पीएमओ और केंद्रीय गृह मंत्रालय भी नजर बनाए हुए है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही, कई लोगों के बहने की आशंका,अलर्ट जारी

इसके अलावा बताया जा रहा है कि टनल में अभी भी 15 से 20 लोगों के फंसे होने की आशंका है। बताया जा रहा है कि जिस समय जल प्रलय हुआ तो अधिकतर लोग पानी में बह गए। उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत भी जोशीमठ पहुंच गए हैं और हालातों का जायजा ले रहे हैं। उन्होंने लोगों से अपील की है कि पुराने वीडियो सर्कुलेट कर पैनिक ना फैलाएं और अफवाहों से बचें। जानकारी के अनुसार ऋषिगंगा परियोजना स्थल की टनल में 10 से 15 लोग हादसे के बाद फंसे थे, जिन्हें रेस्क्यू कर लिया गया है। इसके अलावा तपोवन के हाइड्रो प्रोजेक्ट की टनल में अभी भी कुछ लोगों के फंसे होने की बात बताई जा रही है। मौके पर टीमें रेस्क्यू में डटी हुई हैं।

क्या हुआ आज सुबह, जलप्रलय की टाइम लाइन

जानकारी के अनुसार सुबह 10:40 पर उत्तराखंड के चमोली जिला के ऋषिगंगा नदी में हिमखंड टूटा। इससे नदी में बहुत सारा मलबा आ गया और नदी ने रौद्र रूप धारण कर लिया। इसके बाद सुबह 10:55 पर रेणी में ऋषिगंगा-दो हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट का एक बड़ा हिस्सा तोड़कर पानी का सैलाब का सैलाब आगे बढ़ने लगा। इसके 15 मिनट बाद सुबह 11:10 पर ऋषिगंगा-एक और देवड़ी बांध तेज बहाव से क्षतिग्रस्त हो गया। फिर 11:25 पर धौलीगंगा और ऋषिगंगा के संगम के स्थल तपोवन बाढ़ का सैलाब पहुंचा। इससे अलकनंदा नदी का जलस्तर भी एकाएक बढ़ गया और तपोवन-विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना को भारी नुकसान हुआ। फिर सुबह 11:45 बजे पानी के सैलाब ने जोशीमठ को पार किया और विष्णुगाड-पिपलकोटी परियोजना तक सैलाब पहुंच गया। दोपहर 12:12 पक चमोली को पार कर नंदप्रयाग बाढ़ का पानी पहुंचा। इसके बाद दोपहर 1:00 बजे चमोली जिले में कर्णप्रयाग पार करने के बाद जलस्तर में कमी देखी गई। 1:20 पर रुद्रप्रयाग जिला को पार कर श्रीनगर के करीब बाढ़ का पानी पहुंचा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है