×

फटी हुई जींस पहनने वाली महिलाएं क्या संस्कृति फैलाती होंगी : सीएम तीरथ सिंह रावत

बाल अधिकार संरक्षण आयोग की कार्यशाला में दिया विवादित बयान

फटी हुई जींस पहनने वाली महिलाएं क्या संस्कृति फैलाती होंगी : सीएम तीरथ सिंह रावत

- Advertisement -

नई दिल्ली। उत्तराखंड (Uttarakhand) में बीजेपी के हाईकमान ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को इसलिए सीएम (CM) पद से हटा दिया क्योंकि उनकी छवि संगठन और लोगों के बीच जम नहीं रही थी, लेकिन अब बीजेपी के नए सीएम तीरथ सिंह रावत भी अपने बयानों से जो छवि बना रहे हैं उससे भी हाईकमान हो रहा होगा। दरअसल, उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) ने जो बयान दिया है उसके मुताबिक यह अर्थ निकलता है कि जो महिलाएं (Women) फटी हुई जींस पहनती हैं वो संस्कृति का हित नहीं कर सकती।


यह भी पढ़ें: इंडिगो की फ्लाइट में महिला ने दिया बच्ची को जन्म, जयपुर के लिए उड़ा था प्लेन

हाल ही में उत्तराखंड के सीएम (Uttarakhand CM) बने तीरथ सिंह रावत ने बयान दिया है कि आजकल महिलाएं फटी जींस पहनकर चल रही हैं, क्या यह सब सही है, ये कैसे संस्कार हैं। दरअसल, बाल अधिकार संरक्षण आयोग (Child Rights Protection Commission) की एक कार्यशाला का सीएम ने उद्घाटन किया। इसी दौरान उन्होंने कहा कि बच्चों में कैसे संस्कार आते हैं, ये अभिभावकों पर निर्भर करता है। सीएम (CM) ने अपनी बात समझाने के लिए एक किस्सा भी सुनाया। सीएम तीरथ सिंह रावत ( CM Tirath Singh Rawat) ने कहा कि एक बार वो जहाज से उड़ान भर रहे थे तो उन्होंने देखा कि एक महिला अपने दो बच्चों के साथ बिल्कुल पास में ही बैठी थी, वो फटी हुई जीन्स पहनकर बैठी थी।

यह भी पढ़ें: 9 दिन में 130 डिलीवरी कर कुछ ऐसे मनाई खुशी, डॉक्टर्स का Dance Video हो रहा वायरल

इस मैंने उनसे पूछा कि बहनजी कहां जाना है, तो महिला ने भी जवाब दिया कि दिल्ली जा रही हूं। मेरे पति जेएनयू में प्रोफेसर हैं और वो खुद एनजीओ चलाती हूं। सीएम तीरथ सिंह ने आगे बताया कि मैंने सोचा जो महिला खुद एनजीओ चलाती हो और फटी हुई जींस पहनती हो, वो महिला समाज में क्या संस्कृति फैलाती होगी। जब हम स्कूलों में पढ़ते थे, तो ऐसा नहीं होता था। यहां अपने संबोधन में उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) ने कहा कि युवाओं में नशे की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है। नशा समेत तमाम विकृतियों से बच्चों को बचाने के लिए उन्हें संस्कारवान बनाना होगा, साथ ही हमें पश्चिमी सभ्यता (Western Civilization) से प्रभावित नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि संस्कारित बच्चे जीवन के किसी भी क्षेत्र में असफल नहीं होते।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है