हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017

BJP

44

INC

21

अन्य

3

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

हिमाचल विधानसभा चुनाव: आदित्य विक्रम सिंह और आश्रय शर्मा ने थामा बीजेपी का दामन

स्व. कर्ण सिंह के पुत्र अदित्य सिंह को सीएम जयराम ने दिलवाई पार्टी की सदस्यता

हिमाचल विधानसभा चुनाव: आदित्य विक्रम सिंह और आश्रय शर्मा ने थामा बीजेपी का दामन

- Advertisement -

मंडी। हिमाचल विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Election) में टिकटों की सूची जारी होते ही राजनीतिक उथल पुथल शुरू हो गई है। नेताओं को पार्टी बदलने का क्रम भी शुरू हो गया है। इसी कड़ी में कांग्रेस के दो नेताओं ने बीजेपी (BJP) का दामन थाम लिया है। जिला कुल्लू के बंजार विधानसभा सीट से कांग्रेस की टिकट की मांग कर रहे आदित्य विक्रम सिंह (Aditya Vikram Singh) ने बीजेपी का दामन थाम लिया है। वहीं दूसरी तरफ मंडी सदर विधायक अनिल शर्मा के बेटे और पंडित सुखराम (Pandit Sukhram) के पोते आश्रय शर्मा ने भी दिल्ली में बीजेपी का दामन थाम लिया। उन्हें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण करवाई।

यह भी पढ़ें: धर्मपुर से मंत्री महेंद्र के बेटे को मिला टिकट, बेटी ने कर दी बगावत- दिया इस्तीफा

 

Aaditya-vikram-singh

Aaditya-vikram-singh

पूर्व मंत्री स्व. कर्ण सिंह के पुत्र एवं पूर्व में कुल्लू जिला की बंजार विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी रहे आदित्य विक्रम सिंह ने कांग्रेस पार्टी के हाथ को छोड़कर बीजेपी का कमल थाम लिया है। बुधवार को उन्होंने मंडी में सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) और बंजार के विधायक सुरेंद्र शौरी सहित अन्य नेताओं की उपस्थिति में बीजेपी का दामन थामा। जयराम ठाकुर ने आदित्य विक्रम सिंह का बीजेपी में स्वागत किया। इस मौके पर आदित्य विक्रम सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में आज आम कार्यकर्ताओं की कोई सुनवाई नहीं है। कांग्रेस इस बात को तो कह रही है कि उनकी पार्टी युवाओं की पार्टी है, लेकिन बुजुर्गों से उनका मोह छूट नहीं रहा है।

यह भी पढ़ें: नालागढ़ में बीजेपी दोफाड़, 125 कार्यकर्ताओं ने अपने पदों से दिया सामूहिक इस्तीफा

आदित्य विक्रम ने कहा कि उन्होंने काफी कोशिश की कि वे कांग्रेस में बने रहें, लेकिन पार्टी ने जब उनकी सुनी ही नहीं तो फिर उन्हें बीजेपी में शामिल होना पड़ा। उन्होंने कहा कि वे एक निष्ठावान कार्यकर्ता की तरह पार्टी के लिए काम करेंगे। एक बार जो संकल्प ले लिया वे उससे पीछे हटने वाले नहीं हैं। बता दें कि आदित्य विक्रम सिंह भी कुल्लू (Kullu) के राजपरिवार से ही संबंध रखते हैं। महेश्वर सिंह उनके ताया लगते हैं। आदित्य के पिता स्व. कर्ण सिंह पूर्व की वीरभद्र सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। उल्लेखनीय है कि बंजार से बीजेपी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष पंडित खीमी राम पार्टी को छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए हैं और उन्हें पार्टी ने टिकट भी दे दिया है जबकि आदित्य विक्रम सिंह कांग्रेस पार्टी के टिकट के यहां से सबसे प्रवल दावेदार थे।

 

वहीं पंडित सुखराम के पोते आश्रय शर्मा (Aashray Sharma) ने दिल्ली में जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) की मौजूदगी में बीजेपी का दामन थामा। उन्होंने काफी दिन पहले कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। अब उनके बीजेपी में शामिल होने का इंतजार किया जा रहा था। जिसके चलते उन्होंने आज दिल्ली में जेपी नड्डा की अध्यक्षता में बीजेपी ज्वाइन की। बता दें कि आश्रय के पिता अनिल शर्मा को बीजेपी ने मंडी सदर से टिकट दी है।

 

Ashray-Sharma

Ashray-Sharma

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है