Covid-19 Update

2,21,604
मामले (हिमाचल)
2,16,608
मरीज ठीक हुए
3,709
मौत
34,093,291
मामले (भारत)
241,684,022
मामले (दुनिया)

हिमाचल उपचुनाव: बागी बरागटा ने नहीं लिया नामांकन वापस, चुनाव आयोग ने थमाया सेब, दिलचस्प हुआ मुकाबला

दिन भर गायब रहने के बाद शाम को चेतन बरागटा सबके बीच आए

हिमाचल उपचुनाव: बागी बरागटा ने नहीं लिया नामांकन वापस, चुनाव आयोग ने थमाया सेब, दिलचस्प हुआ मुकाबला

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में जुब्बल कोटखाई उपचुनाव को लेकर चल रहे सियासी शह-मात के पहले चरण का आज पटाक्षेप हो गया है। बीजेपी (BJP) और सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) के तमाम दावों के बीच बागी चेतन बरागटा ने अपना नामांकन वापस नहीं लिया। उन्हें चुनाव आयोग (Election Commission) द्वारा सेब चुनाव चिन्ह मिला है। इसके साथ ही चुनावी रणभूमि में चेतन ने बीजेपी प्रत्याशी नीलम सरैइक और कांग्रेस प्रत्याशी रोहित ठाकुर को चुनौती दी है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल उपचुनाव: भितरघात के दर्द में उलझी बीजेपी और कांग्रेस को राजन सुशांत की कड़ी चुनौती

बीजेपी का था बहुत दबाव

चेतन बरागटा (Chetan Bragta) ने कहा कि मुझ पर बहुत दबाव था। पर मैं किसी के दबाव में नहीं आया। आखिर इसमें जुब्बल-कोटखाई की जनता के प्रेशर की जीत हुई है। उन्होंने कहा कि सब कुछ दांव पर लगाकर इसलिए चुनाव लड़ रहा हूं कि जुब्बल-कोटखाई की जनता ने मुझे चुनाव लड़ने के आदेश दिए हैं। मैं विधानसभा की जनता के मत का सम्मान करता हूं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उन्होंने बीजेपी नेताओं के लगातार फोन आ रहे थे। बुधवार को नामांकन वापसी की अंतिम तिथि थी। बता दें कि प्रदेश बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने कई बार चेतन बरागटा से संपर्क साधने की कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे।

मंत्री के टिप्पणी पर नहीं दिया कोई जवाब

वहीं, जयराम सरकार में मंत्री सुरेश भारद्वाज की तरफ से की गई टिप्पणी पर चेतन ने कहा कि इसका जवाब विस क्षेत्र की जनता देगी। उन्होंने कहा कि वे मंत्री के बयान पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं। चेतन बरागटा ने कहा कि उन्हें सेब चुनाव चिन्ह मिला है। यही चिह्न उनका बेड़ा पार लगाएगा, उनके पिता नरेंद्र बरागटा सारी उम्र सेब की लड़ाई लड़ते रहे। चेतन बरागटा ने कहा कि वह छह बजे महासू से निकले, उसके बाद दरकोटी पंचायत गए। फिर बीजेपी प्रत्याशी नीलम सरैइक के गांव कोटी पहुंचे। उन्होंने कहा कि वे कहीं लापता या गायब नहीं थे। जहां वह दरकोटी पंचायत में थे, वहां सिग्नल नहीं था। उन्होंने कहा कि ऐसे में लोगों को लगा होगा कि वह कहीं लापता हो गए हैं या गायब हो गए हैं। सुबह से लेकर वह लोगों से संपर्क में थे।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है