Covid-19 Update

2,27,195
मामले (हिमाचल)
2,22,513
मरीज ठीक हुए
3,831
मौत
34,596,776
मामले (भारत)
263,226,798
मामले (दुनिया)

हिमाचल: 2 को सोई सरकार को जगाने शिमला जाएंगे हजारों मजदूर, सीटू का धरना जारी

बोर्ड में मजदूरों के पंजीकरण को लेकर गरजी सीटू, बोर्ड में स्टाफ की भर्तीयां व लाभ देने की उठाई मांग

हिमाचल: 2 को सोई सरकार को जगाने शिमला जाएंगे हजारों मजदूर, सीटू का धरना जारी

- Advertisement -

हमीरपुर। श्रम कल्याण बोर्ड में चल रही स्टाफ की कमी तथा लाभार्थियों के लाभ जारी ना करने के खिलाफ दूसरे दिन भी सीटू (CITU) ने धरना प्रदर्शन (Protest) किया। दोसडका स्थित बोर्ड कार्यालय के बाहर बैठकर सीटू कार्यकर्ताओं ने आवाज बुलंद करते हुए कहा कि मांगों को सरकार जल्द पूरा करे। इस दौरान कई कामगार इस धरना प्रदर्शन में शामिल हुए। सीटू ने सरकार को चेतावनी (Warning) दी है कि अगर जल्द ही उनकी मांगे नहीं मानी गईं तो दो नवंबर को शिमला में श्रमिक कल्याण बोर्ड का घेराव किया जाएगा। यह धरना प्रदर्शन सुबह 11 बजे से लेकर एक बजे तक किया गया।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: बुनियादी सुविधाओं की बदहाली पर कांग्रेस का धरना, 30 दिन का अल्टीमेटम

सीटू कार्यकर्ताओं का कहना है कि जो लोग श्रम कल्याण बोर्ड (Labor Welfare Board) से पंजीकृत बच्चों के शिक्षा वजीफे 2020 के नहीं मिले हैं। इसके साथ ही जो सामान पंजीकृत मजदूरों को श्रम कल्याण बोर्ड की तरफ से मिलता है, वे भी नहीं मिल पाया है। सीटू के राष्ट्रीय सचिव कश्मीर सिंह ने कहा कि प्रदर्शन का सिलसिला लगातार जारी रहेगा और अगर सरकार नहीं मानी तो दो नवंबर को शिमला में श्रमिक कल्याण बोर्ड का घेराव किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस दिन हजारों मजदूर शिमला (Shimla) जाएंगे तथा सो रही सरकार को जगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाषणों से पेट नहीं भरता, लोगों को उनका लाभ मिलना चाहिए। पहले काफी सामान मिलता था, जो आज नहीं मिल रहा है।

 

 

सीटू के राष्ट्रीय सचिव कश्मीर सिंह का कहना है कि कोरोना पीरियड का जो छह हजार रुपए मजदूरों के बैंक खाते में आना चाहिए था वह आज तक नहीं आया है। उन्होंने कहा कि इस तरह से बोर्ड में बड़े पैमाने पर धांधली हो रही है। ऐसा पता चला है कि अपने चेहेतों को लाभ दिया जा रहा है और उनका फार्म सबसे पहले शिमला पहुंच जाता हैए जबकि अन्य के फार्म कार्यालय में ही पड़े रहते हैं। उन्होंने कहा कि 1500 के करीब आवेदन जिला कार्यालय में ही पड़े हुए हैं। ऐसे में कब यह शिमला पहुंचेंगे तथा कब जाकर वजीफा मिलेगा। उन्होंने कहा कि समस्या के समाधान के लिए बोर्ड के चेयरमैन से भी मुलाकात की जा चुकी है, लेकिन हालात जस के तस बने हुए हैं। उन्होंने कहा कि इस रवैये से आज मजदूर खासा परेशान है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है