Covid-19 Update

1,54,664
मामले (हिमाचल)
1,15,610
मरीज ठीक हुए
2219
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

‘नाटी शराब’ पर विभाग का तर्क, पंजाबी हीर नाम से भी तो बिकती है शराब

बोतल के लेबल से हटा दिया गया है नाटी का चित्र

‘नाटी शराब’ पर विभाग का तर्क, पंजाबी हीर नाम से भी तो बिकती है शराब

- Advertisement -

शिमला। नाटी संतरा नंबर-1 (Nati Santra Number 1) के नाम से बेची जा रही देशी शराब (Country Liquor)पर विवाद चल रहा है। एक तो सरकार शराब के नाम में ही नाटी शब्द इस्तेमाल करने की इजाजत दे दी ऊपर से इस शराब की बोतल के लेबल में भी नाटी का चित्र चस्पां कर। यह चित्र भी बिना किस कॉपी राइट के इस्तेमाल किया गया था। विवाद बढ़ता देख सरकार ने खानापूर्ति करते हुए केवल नाटी का चित्र (Natio Photo) ही शराब की बोतल के लेबल से हटाया है। अब सरकार ने अपना बचाव करते हुए एक तर्क भी दे दिया है।


यह भी पढ़ें: आबकारी विभाग ने रोकी Nati santra No. 1 की सेल और उत्पादन, लेबल से नाटी का फोटो हटवाया

विभाग के प्रवक्ता की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जन-मानस की भावनाओं का सम्मान करते हुए राज्य कर एवं आबकारी एवं कराधान विभाग (State Tax and Excise and Taxation Department) ने देशी शराब के ब्रांड नाटी नंबर-1 संतरा लेबल पर छपे नाटी के चित्र की अनुमति को तुरंत प्रभाव से वापिस ले ली गई है। विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि मीडिया (Media) के माध्यम से विभाग के ध्यान में मामला आया था कि प्रदेश में बिक रहे देशी शराब के ब्रांड नाटी नंबर-1 संतरा के लेबल पर छपे नाटी के चित्र (Nati Pictures) से समाज के कुछ वर्गां के लोगों की सांस्कृतिक भावनाओं को ठेस पहुंची है। उन्होंने स्पष्ट किया कि जब भी विभाग द्वारा किसी भी ब्रांड के लेबल को स्वीकृत किया जाता है, तो इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखा जाता है कि इससे किसी भी रूप से किसी धर्म व जाति विशेष की भावनाओं ठेस न पहुंचे। इस ब्रांड को भी कुछ दिन पहले ही विभाग द्वारा निर्माता की ओर से सभी कानूनी प्रक्रियाओं को पूरा करने के उपरांत ही अनुमोदित किया गया था।


यह भी पढ़ें: संस्कृति की दुहाई देने वाली BJP सरकार ने शराबियों के नाम की ‘नाटी’ : Mukesh Agnihotri

विभाग का कहना है कि पड़ोसी राज्य पंजाब में भांगड़ा ढोल बजाते हुए चित्र के साथ तथा पंजाबी हीर के नाम से देशी शराब की पूरे राज्य में बिक्री की जाती है। इसी प्रकार घूमर व ढोलामारू नाम के ब्रांडों की राजस्थान में बिक्री की जाती है। इन सभी का उपरोक्त राज्यों की सांस्कृतिक विरासत में विशेष स्थान है। यद्यपि इस ब्रांड के लेबल का अनुमोदन सभी प्रकार के कानूनी प्रावधानों को ध्यान में रखकर ही किया जाता है, परन्तु जन-मानस की भावनाओं का सम्मान करते हुए विभाग द्वारा इस लेबल पर छपे नाटी के चित्र की अनुमति को तुरन्त प्रभाव से वापिस ले लिया गया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है