Covid-19 Update

2,00,282
मामले (हिमाचल)
1,93,850
मरीज ठीक हुए
3,423
मौत
29,853,870
मामले (भारत)
178,745,302
मामले (दुनिया)
×

राहत: किसानों को पहले के रेट में ही मिलेगी खाद, जयराम ने मोदी का जताया आभार

केंद्र ने डायम्मोनियम फास्फेट उर्वरक पर अनुदान में 140 प्रतिशत वृद्धि की

राहत: किसानों को पहले के रेट में ही मिलेगी खाद, जयराम ने मोदी का जताया आभार

- Advertisement -

शिमला। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का किसानों को डायमोनियम फास्फेट (Diammonium Phosphate) उर्वरक पर अनुदान में 140 प्रतिशत वृद्धि कर राहत प्रदान करने के ऐतिहासिक निर्णय के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के लाखों किसान लाभान्वित होंगे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में किसानों को इस उर्वरक पर मिल रहे अनुदान को 500 रुपये प्रति बैग से बढ़ाकर 1,200 रुपये प्रति बैग कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मूल्य में वृद्धि के बावजूद भी किसानों को यह उर्वरक 1,200 रुपये प्रति बैग के पुराने मूल्य पर ही उपलब्ध होगी।

यह भी पढ़ें: कोरोना कर्फ्यू के बीच शिमला में सस्ते राशन के डिपो खुलने का अब ये होगा टाइम

उन्होंने कहा कि डायमोनियम फास्फेट भारत में दूसरा सबसे अधिक प्रयोग होने वाला उर्वरक है। हिमाचल प्रदेश में डायमोनियम फॉस्फेट की वार्षिक खपत 1,200-1,500 मीट्रिक टन है। किसान इस उर्वरक को सामान्यतः रबी के मौसम में आलू (Potato) और गेहूं की फसल में बुआई से ठीक पहले या बुआई के समय प्रयोग करते हैं। हिमाचल प्रदेश के ऊना (Una), कांगड़ा और पांवटा साहिब (Paonta Sahib) व नालागढ़ के कुछ क्षेत्रों में इस उर्वरक का प्रयोग किया जाता है। गत वर्ष डायमोनियम फॉस्फेट का वास्तविक मूल्य 1,700 रुपये प्रति बैग था, जिस पर केंद्र सरकार 500 रुपये प्रति बैग का अनुदान प्रदान कर रही थी, लेकिन हाल ही में डायमोनियम फॉस्फेट में प्रयोग होने वाले फॉस्फोरिक एसिड, अमोनिया इत्यादि के मूल्य में 60 से 70 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जिसके कारण डायमोनियम फॉस्फेट की प्रति बैग कीमत 2,400 रुपये हो गई थी। उन्होंने कहा कि पीएम ने अनुदान में वृद्धि कर इस समस्या का समाधान किया है।


यह भी पढ़ें: कोरोना कर्फ्यू में डिपो से राशन के लिए तीन घंटे से बढ़ेगा टाइम-DC करेंगे तय

जयराम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में उर्वरक की खपत 63 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह 132 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर है। उन्होंने कहा कि राज्य में उर्वरक वितरण प्रणाली सहकारिता नेटवर्क के अंतर्गत है और उर्वरक का वितरण 2,143 सहाकारी सभाओं और डिपो धारकों के माध्यम से सुनिश्चित किया जा रहा है। सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार ने उर्वरक वितरण कार्य हिमफेड को सौंपा है और इफको को भी उसकी 620 सम्बद्ध सभाओं के माध्यम से आपूर्ति कार्य के लिए स्वीकृति प्रदान की है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है