Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

60 साल से कम उम्र वाले मोटे पुरुषों को Corona से मौत का ज्यादा खतरा

60 साल से कम उम्र वाले मोटे पुरुषों को Corona से मौत का ज्यादा खतरा

- Advertisement -

कोरोना वायरस को लेकर नए से नए खुलासे होते रहते हैं। हाल ही में हुई एक स्टडी (Study) में यह बात सामने आई है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से 60 साल से कम मोटी महिलाओं की तुलना में मोटे पुरुषों की ज्यादा मौत हो रही है। इसका मतलब ये है कि ज्यादा खतरा मोटे लोगों पर तो है ही साथ ही अगर उनकी उम्र भी ज्यादा हुई तो कोरोना से बचाव बेहद जरूरी है। कैसर परमानेंटे साउर्दन कैलिफोर्निया हेल्थ सिस्टम (Kaiser Permanente Southern California Health System) के शोधकर्ताओं ने 7000 कोरोना केस की स्टडी की है। उन्होंने पाया कि अगर बाकी सारी बीमारियां और परिस्थितियां हटा दी जाएं तो सिर्फ मोटापा अकेला ऐसा कारण है जिसकी वजह से 60 साल से कम पुरुषों की ज्यादा मौत हो रही है।

यह भी पढ़ें: शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, किसी भी खरीद में चीनी कंपनियों की एंट्री पर Ban

स्टडी में बताया गया है कि अत्यधिक मोटे लोगों के शरीर का BMI (Body Mass Index) 40 प्वाइंट से ज्यादा है तो कोरोना की वजह से उनकी मौत की आशंका तीन गुना बढ़ जाती है। अगर यह 45 पार करता है तो मौत की आशंका चार गुना ज्यादा हो जाती है। दोनों ही स्थितियों में पुरुषों की हालत ज्यादा खराब है जबकि महिलाएं इससे तुलनात्मक रूप से बची हुई हैं।
इसके पहले भी ये सवाल उठा था कि कि क्या कोरोना वायरस मोटे यानी ज्यादा वजन वाले लोगों को अधिक नुकसान पहुंचाता है? तो आप ये जान लें कि यूरोप के नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) के मुताबिक यूरोप में जितने भी लोग बीमार हुए हैं उनमें से दो तिहाई मोटे लोग हैं। NHS मुताबिक अगर आपके शरीर में जरूरत से ज्यादा चर्बी है, आपका बॉडी मास इंडेक्स (BMI) ज्यादा है तो आपके लिए कोरोना वायरस का खतरा बढ़ जाता है।

यूरोप में कोरोना वायरस की वजह से गंभीर रूप से बीमार लोगों में दो तिहाई लोग मोटे हैं। NHS ने यह भी बताया कि गंभीर रूप से बीमार लोगों में 40 फीसदी लोग 60 साल से नीचे हैं और मोटे हैं। आपको बता दें कि अकेले यूनाइटेड किंगडम में कोरोना से संक्रमित कुल मरीजों में से 63 प्रतिशत ICU में हैं। ये सारे के सारे मोटे हैं या ज्यादा बीएमआई वाले हैं। मार्च महीने में यूके में एक समय में करीब 194 लोग ICU में एडमिट हो रहे थे। इनमें से करीब 130 लोग अपने शरीर के मुताबिक ज्यादा वजनी हैं। ICU में एक समय में भर्ती 194 लोगों में से 139 मरीज पुरुष हैं। यानी करीब 71 फीसदी। जबकि, महिलाएं 57 भर्ती हो रही हैं। यानी 29 प्रतिशत। इन मरीजों में से 18 मरीज ऐसे होते हैं जिनको फेफड़ों या दिल संबंधी बीमारी होती है यानी मोटापे की वजह से जन्मी बीमारियां आदि।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है