Covid-19 Update

2,60,321
मामले (हिमाचल)
2,39. 550
मरीज ठीक हुए
3916*
मौत
38,903,731
मामले (भारत)
347,844,974
मामले (दुनिया)

विदेशों में रहने वाले हिंदुओं के स्वर्गवास के बाद हरिद्वार में ऐसे होगा निशुल्क अस्थि विसर्जन

संत शिव सेना फाउंडेशन करवाएगा मुक्ति के लिए धार्मिक अनुष्ठान

विदेशों में रहने वाले हिंदुओं के स्वर्गवास के बाद हरिद्वार में ऐसे होगा निशुल्क अस्थि विसर्जन

- Advertisement -

विदेशों में बसे अप्रवासी हिंदुओं के स्वर्गवास के बाद उनकी अस्थियों को हिंदू रीति-रिवाजों से गंगा नदी में हरिद्वार (Haridwar) में विसर्जन और उनकी आत्मा की शांति और मुक्ति के लिए धार्मिक अनुष्ठान निशुल्क शुरू करने का बीड़ा संत शिव सेना फाउंडेशन ने उठाने का फैसला किया है। संगठन के संथापक चरण जीव मल्होत्रा ने बताया इस समय विदेशों में बसे हिंदुओं की मृत्यु के बाद उनके परिजन ज्यादातर अपने प्रियजनों की अस्थिओं को समुद्र में बहा देते हैं जबकि हिंदू रीति
रिवाज के अनुसार इन अस्थियों को पावन नदियों में विसर्जन करना चाहिए तथा इससे जुड़े धार्मिक अनुष्ठान किए जाने चाहिए।

ये भी पढ़ें-सरसंघचालक मोहन भागवत की दलाई लामा से बंद कमरे में मुलाकात, कई अहम मुद्दों पर हुई मंत्रणा

उनका कहना है कि वो विदेशों में बसे हिंदू संगठनों से संपर्क में है। उन्होंने बताया की उन्होंने इस सिलसिले में अमेरिका, कनाडा, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया सहित अन्य देशों में हिंदू संस्थाओं से बातचीत की है और उन्हें कहा है की वह इस सिलसिले में वहां रहने बाले हिंदू परिवारों को जानकारी दें। चरण जीव मल्होत्रा (Charan Jeev Malhotra) ने बताया कि अप्रवासी हिंदू अपने दिवंगत परिजनों की अस्थियों को कूरियर से उनके पास भेज सकते हैं। जिसके बाद वो पूरे धार्मिक रीति-रिवाज
से उनकी अस्थियों को प्रवाहित करेंगे तथा अन्य सभी धार्मिक अनुष्ठान भी अपने खर्चे पर करेंगे। एम्बुलेंस मैन के तौर पर ख्याति प्राप्त चिरंजीव मल्होत्रा ने कोरोना काल में कोरोना से पीड़ित परिवारों को मुफ्त दवाइयां, राशन, ऑक्सीजन सिलैंडर पहुंचाने और कोरोना से जान गंवा देने वाले लोगों के अंतिम संस्कार करने के लिए छह एम्बुलेंस खरीदी व उन सैकड़ों लोगों का अपने खर्चे पर अंतिम संस्कार करवाया, जिनको उनके घर-परिवार के लोग छोड़ चुके थे।

कोरोना (corona) के दौरान किसी-किसी के घर में तो पूरा परिवार ही संक्रमित था। ऐसे में उन्होंने इन परिवारों की मदद के लिए निशुल्क दवाइयां पहुंचाई और ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध करवाए। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना के दौरान सात हजार से अधिक परिवारों को निशुल्क राशन वितरण किया और लंगर सेवा भी शुरू की। वह अब तक चालीस हजार लोगों की अस्थियां गंगा नदी में विसर्जित कर चुके हैं और उनका संस्कार हिंदू धार्मिक रीति-रिवाज से कर चुके हैं, जोकि आर्थिक स्थिति की वजह से सक्षम नहीं थे। चरण जीव मल्होत्रा को कोरोना काल में उल्लेखनीय सेवा के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत (Dr Mohan Bhagwat) ने गत 21 नवंबर को विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में प्रतिष्ठित संत ईश्वर सम्मान से सम्मानित किया था।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है