Covid-19 Update

2,01,210
मामले (हिमाचल)
1,95,611
मरीज ठीक हुए
3,447
मौत
30,134,445
मामले (भारत)
180,776,268
मामले (दुनिया)
×

रफ्तार पकड़ रहे कोरोना टीकाकरण अभियान के बीच आखिर कैसे वेस्ट हो जाती है कोरोना वैक्सीन

कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना, उत्तराखंड आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल कम वेस्ट करने वाले राज्य

रफ्तार पकड़ रहे कोरोना टीकाकरण अभियान के बीच आखिर कैसे वेस्ट हो जाती है कोरोना वैक्सीन

- Advertisement -

देश इस समय कोरोना ( corona)से जूझ रहा है। संक्रमितों के हर रोज चौंकाने वाले आंकड़े सामने आते हैं, जो झकझोर कर रख देते हैं। दूसरी तरफ टीकाकरण( Vaccination) का काम भी तेजी से चला हुआ है, लोग स्वयं टीका लगवाने के लिए आगे आ रहे हैं। कोरोना का टीका ही इस बीमारी से बचने में सहायक सिद्ध हो सकता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि इस समय हमारे देश में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान ( Vaccination campaign) का तीसरा चरण चल रहा है।

ये भी पढ़ें:कोरोना की आंधी-4.14 लाख नए मामले,3920 की गई जान, स्वस्थ होने वाले लोगों की दर गिरी


चिंता की बात यह है कि एक तरफ जहां टीका लगवाने के लिए लोग लाइनों में लग रहे हैं दूसरी तरफ टीके की बरबादी की भी खबरें भी लगातार सामने आ रही है। हाल यह है कि कई राज्यों में तो पांच फीसदी से अधिक टीका बरबाद हो रहा है। यहां तक कि पीएम नरेंद्र मोदी( PM Narendra Modi) भी टीके की बरबादी रोकने की अपील कर चुके हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार सबसे अधिक टीके की बर्बादी तमिलनाडु में हुई है।

ये भी पढ़ें: कोरोना पर समीक्षाः पीएम मोदी बोले- टीकाकरण की रफ्तार में ना आने पाए कमी

वहां पर 8.83 प्रतिशत टीके बर्बाद ( Vaccine waste) हो गए हैं। अन्य राज्यों में छह मई 2021 तक असम में 7.7, हरियाणा में 5.72 पंजाब में 4.98, बिहार में 4.95, दिल्ली में 3.96, उत्तर प्रदेश में 3.54, झारखंड में 3.12, गुजरात में 3.61 और मध्य प्रदेश में 3.21 फीसदी वैक्सीन बर्बाद हुई है। कुछ राज्य काफी समझदारी से टीके का इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि बर्बादी को कम से कम किया जा सके। इसमें कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना, उत्तराखंड आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल जैसे राज्य शामिल है।

कैसे हो रही वैक्सीन वेस्ट

वैक्सीन की शीशी में 10 या 20 डोज वैक्सीन होगी है। एक शीशी के खोलने के 4 घंटों के भीतर इनका प्रयोग करना होता है। अगर शीशी खुलने के चार घंटों के बीच सभी को डोज नहीं लगाए जाते तो बाकि की वैक्सीन खराब हो जाती है। होता यह है कि अगर किसी सेंटर पर शाम को समय कोई शीशी खुल जाती है और लग टीका लगवाने नहीं पहुंचते हैं तो बाकि का बचा हुआ टीका बरबाद हो जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है