×

IAS शाह फैसल ने छोड़ा अपनी पार्टी का अध्यक्ष पद: राजनीतिक संन्यास या फिर कुछ और…

IAS शाह फैसल ने छोड़ा अपनी पार्टी का अध्यक्ष पद: राजनीतिक संन्यास या फिर कुछ और…

- Advertisement -

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) कैडर के आईएएस अफसर शाह फैसल (Shah faisal) ने अपने पद से इस्तीफा देकर जब राजनीति में आने का फैसला लेते हुए अपनी पार्टी बनाने का ऐलान किया था। तो प्रदेश के लोगों को घाटी में एक नई राजनीति की सुगबुगाहट महसूस हुई थी। शहला राशिद जैसे युवाओं का समर्थन लेकर अपनी राजनीति को चमकाने की कोशिश करने वाले शाह फैसल ने अब खुद की बनाई पार्टी जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।


इस्तीफे के बाद क्या करेंगे फैसल; यहां जानें

शाह फैसला द्वारा लिया गया यह फैसला जहां लोगों को हैरान कर रहा है। वहीं, राजनीतिक पंडित इस इस्तीफे को लेकर कुछ और ही गणित भिड़ा रहे हैं। शाह फैसल के प्रशासनिक सेवा में वापस शामिल होने की भी संभावना है। बताया जा रहा है कि शाह फैसल फिर से प्रशासनिक सेवा ज्वाइन कर सकते हैं। दरअसल, इसकी बड़ी वजह ये भी मानी जा रही है कि आईएएस सेवा से दिया गया उनका इस्तीफा अब तक स्वीकार नहीं किया गया है। दूसरी तरफ यह भी चर्चा है कि आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका जा सकते हैं। हालांकि, फैसल की ओर से अभी तक कुछ नहीं कहा गया है। बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पीएसए के तहत हिरासत में लिए गए फैसल को हाल ही में रिहा किया गया है।

बीजेपी कुछ इस तरह बिछा रही है राजनीतिक बिसात

जम्मू-कश्मीर में मनोज सिन्हा का उपराज्यपाल बनने और शाह फैसल के इस्तीफे के बाद कहा जा रहा है कि अब तक आईएएस अफसरों की सलाहकार समिति के साथ काम करने वाले लेफ्टिनेंट गवर्नर के लिए अब केंद्र एक नए प्रयोग की पटकथा लिख रहा है। जो संभावित विकल्प नजर आ रहे हैं, उसमें सबसे प्रमुख उप राज्यपाल के लिए राजनीतिक समिति बनाने का है।

यह भी पढ़ें: Jammu-Kashmir आतंकी हमले में घायल BJP नेता ने इलाज के दौरान तोड़ा दम

बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार और राज्य प्रशासन प्रदेश में राजनीतिक गतिविधियों की बहाली के लिए गवर्नर के साथ एक राजनीतिक सलाहकार समिति बनाने की योजना पर काम कर रही है। सूत्रों के अनुसार, शाह फैसल का इस्तीफा भी इसी समिति का हिस्सा बनने के लिए कराया गया है। इसके अलावा ये भी अटकलें हैं कि अगर शाह फैसल फिर से नौकरशाही में लौटते हैं तो भी उन्हें राजभवन के करीबी पद पर ही जगह दी जाएगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whatsapp Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है