Covid-19 Update

2,27,405
मामले (हिमाचल)
2,22,756
मरीज ठीक हुए
3,835
मौत
34,615,757
मामले (भारत)
264,798,834
मामले (दुनिया)

World diabetes day 2021: लक्षण से लेकर बचाव तक जानिए सबकुछ यहां

World diabetes day 2021: लक्षण से लेकर बचाव तक जानिए सबकुछ यहां

- Advertisement -

नई दिल्ली। अब तो डायबिटीज की बीमारी युवा पीढ़ी के लोगों को भी अपना शिकार बनाने लगी है। हाई ब्लड शुगर की यह बीमारी अगर बेकाबू हो जाए तो इंसान को मौत के दरवाजे तक पहुंचा सकती है। इसका मुख्य कारण है स्ट्रेस व बिजी शेड्यूल। हालांकि, डॉक्टर्स का कहना है कि हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाकर डायबिटीज से बचा जा सकता है। वहीं, अगर समय रहते मुधमेह यानी डायबिटीज पर ध्यान नहीं दिया गया तो यह जानलेवा साबित हो सकता है। डायबिटीज के प्रति लोगों को जागरूकर करने के लिए हर साल 14 नवंबर को वर्ल्ड डायबिटीज-डे मनाया जाता है। इसलिए आज हम आपके सेहत से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आए हैं।

डायबिटीज होने के क्या कारण हैं?

डॉक्टर्स का कहना है कि डायबिटीज लिंग, उम्र और मेडिकल स्थिति के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं। यदि आपके माता-पिता को डायबिटीज रहा हो तो बच्चों में भी इसका खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा आहार में चीनी युक्त चीजों का अधिक सेवन, शारीरिक गतिविधि में कमी, मोटापा आदि के कारण भी इसका जोखिम बढ़ जाता है। समय के साथ डायबिटीज के कारण हृदय रोग, हार्ट अटैक, स्ट्रोक, न्यूरो, आंख और कान से संबंधित समस्याएं भी हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें;क्या भारत को भी है बूस्टर डोज की जरूरत, आइए समझते हैं

किन गंभीर बीमारियों से जूझना पड़ सकता है

डायबिटीज के कारण आपको गंभीर बीमारियों से जूझना पड़ सकता है। डायबिटीज टाइप 2 के मरीजों को धुंधला दिखाई देने लगता है। डायबिटीज आपकी आंखों की छोटी ब्लड वेसल्स को नुकसान पहुंचा सकती है। इससे ग्लूकोमा, मोतियाबिंद और डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा बढ़ जाता है।

वहीं, डायबिटीज का सबसे अधिक असर आपके दिल यानी हार्ट पर दिखने को मिलता है। अगर आपने डायबिटीज को कंट्रोल नहीं किया तो हाई ब्लडप्रेशर और दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। वहीं, डायबिटीज के कारण पैरों में अल्सर बन जाते हैं। नस और ब्लड सर्कूलेशन खराब होने से पैरों में अल्सर जैसी समस्या हो सकती है। ये पैर के अल्सर कभी-कभी संक्रमित भी हो सकते हैं।

क्या करें सेवन

डायबिटीज रोगियों के लिए हरी और पत्तेदार सब्जियों का सेवन करना विशेष लाभदायक हो सकता है। हरी सब्जियां बेहद पौष्टिक और कैलोरी में कम होती हैं। पालक, केल और अन्य पत्तेदार साग विटामिन-सी सहित कई विटामिन्स और खनिजों के अच्छे स्रोत माने जाते हैं। ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ने से रोकने के साथ यह डायबिटीज के कारण होने वाली जटिलताओं को कम करने में सहायक हैं।

वहीं, डायबिटीज रोगियों के लिए अंडे का सेवन भी फायदेमंद था। अंडे शरीर में सूजन को कम करने के साथ इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करते हैं। साल 2019 के एक अध्ययन में पाया गया कि अंडों को नाश्ते में शामिल करके रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन करने में मदद मिल सकती है। यह शरीर में प्रोटीन की आवश्यकताओं की भी आसानी से पूर्ति करने में सहायक माना जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है