Covid-19 Update

2,63,113
मामले (हिमाचल)
2,45, 890
मरीज ठीक हुए
3936*
मौत
40,085,116
मामले (भारत)
359,251,319
मामले (दुनिया)

एक बहादुर चूहा, जिसने पांच साल में हजारों लोगों की बचाई जान

ब्रिटिश चैरिटी ने मेडल से किया था सम्मानित

एक बहादुर चूहा, जिसने पांच साल में हजारों लोगों की बचाई जान

- Advertisement -

चूहे-बिल्ली की कहानियां आप बचपन से ही सुनते आ रहे हैं। अब बच्चे टीवी पर टॉम और जैरी (Tom And Jarry) का कार्टून देखना पसंद करते हैं। इस कार्टून में कैसे जैरी एक बहादुर चूहा हर बार टॉम बिल्ली को हरा देता है। आइए ऐसे ही एक बहादुर चूहे के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। जिसे ब्रिटिश चैरिटी (British Charity) द्वारा मेडल देने सम्मानित भी किया जा चुका है। दुख बात यह है कि इस बहादुर आठ साल के चूहे मागवा का निधन हो गया है। यह अफ्रीकी नस्ल का चूहा (African Rat) दुनियाभर में एक श्हीरो” के रूप में मशहूर था। उसकी बहादुरी जानकर बहुत से लोग हैरान रह जाते हैं। दरअसल, मगावा ने अपने 5 साल के बम स्निफिंग करियर में हजारों लोगों की जिंदगी बचाई थी। जी हां, उसने दक्षिण पूर्व एशियाई देश कम्बोडिया (Southeast Asian country Cambodia) में बारूदी सुरंगों का पता लगाने का काम बड़ी जिम्मेदारी के साथ किया था।

यह भी पढ़ें: भैंस पर बैठने जा रही थी महिला, उछाल के पटका, यहां देखें वीडियो

अपनी सर्विस में किया शानदार काम

मगावा को इस तरह से ट्रेनिंग दी गई थी कि वह बारूद को सूंघकर वक्त रहते अपने हैंडलर (चूहे की देखभाल करने वाला) को अलर्ट कर सके। उसने ड्यूटी के दौरान 71 लैंडमाइन्स और 38 जिंदा विस्फोटों का पता लगाकर हजारों लोगों की जान बचाई थी। मगावा की हैंडलर ने उसकी रिटायरमेंट (Retirement) पर कहा था कि उसने अपनी सर्विस में शानदार काम किया। भले ही वो छोटा था, लेकिन मुझे उसके साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करने पर गर्व है।

 

ब्रिटिश चैरिटी से मिला था मेडल

मगावा (Magawa) को उसके काम के लिए ब्रिटिश चैरिटी द्वारा मेडल से सम्मानित किया गया था। दरअसल, ब्रिटिश चैरिटी का जानवरों के लिए शीर्ष पुरस्कार, जो अब तक खासतौर पर कुत्तों के लिए आरक्षित था, वह मगावा ने अपने नाम किया था। बता दें, जब मगावा को साल 2016 में कम्बोडिया लाया गया था तो वह सिर्फ दो साल का था।

करियर में इतनी जमीन की पड़ताल की थी!

बता दें, बेल्जियम (Belgium) की गैर लाभकारी संस्था एपीओपीओ ने मगावा को ट्रेनिंग दी थी। यह संगठन चूहों को बारूदी सुरंगों और अस्पष्टीकृत विस्फोटों का पता लगाने का परिक्षण देता है। अपने करियर में मगावा ने 1.4 लाख स्क्वायर मीटर से अधिक की जमीन की पड़ताल की थी, जो कि करीब 20 फुटबाल मैदानों (Soccer Fields) के बराबर है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है