Covid-19 Update

1,61,072
मामले (हिमाचल)
1,24,434
मरीज ठीक हुए
2348
मौत
24,965,463
मामले (भारत)
163,750,604
मामले (दुनिया)
×

#Covaxin_Controversy :  इबोला वैक्सीन ने भी ह्यूमन ट्रायल पूरा नहीं किया, फिर भी मिली मंजूरी

भारत बायोटेक ने MD कृष्ण एला ने कोवैक्सीन विवाद पर दी सफाई

#Covaxin_Controversy :  इबोला वैक्सीन ने भी ह्यूमन ट्रायल पूरा नहीं किया, फिर भी मिली मंजूरी

- Advertisement -

हैदराबाद : कोरोना के इलाज की वैक्सीन यानी कोवैक्सीन-कोविशील्ड को DCGI की ओर से मंजूरी मिलने के साथ ही विवाद भी खड़ा हो गया है। कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी पार्टियों ने वैक्सीन पर सवाल उठाए हैं। अब कोवैक्सीन (Covaxin) के मसले पर भारत बायोटेक (Bharat Biotech) के एमडी कृष्ण एला (MD Krishna Ella) ने सफाई दी है।  उन्होंने कहा है कि इबोला वैक्सीन ने भी कभी ह्यूमन ट्रायल पूरा नहीं किया। इसके बावजूद डब्ल्यूएचओ ने लाइबेरिया और गिनी के लिए इस वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी थी।


कृष्ण एला ने कहा कि हमारे पास वैक्सीन बनाने का अनुभव है। हम 123 देशों के लिए काम कर रहे हैं। इस तरह का अनुभव रखने वाली हमारी एकमात्र कंपनी है। इसलिए हमारी वैक्सीन पर सवाल नहीं उठाया जाना चाहिए। भारत बायोटेक के एमडी ने कहा कि कुछ लोगों द्वारा वैक्सीन का राजनीतिकरण किया जा रहा है। मैं यह साफ तौर पर कहना चाहता हूं कि मेरे परिवार का कोई भी सदस्य किसी भी राजनीतिक दल से नहीं जुड़ा है। ऐसे में इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।


कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि तीसरे फेज का ट्रायल दो से तीन दिनों के भीतर खत्म हो जाएगा, जबकि डेटा फरवरी से मार्च तक उपलब्ध होगा। भारत बायोटेक के एमडी ने ज़ोर देते हुए कहा कि हमारे पास BSL-3 प्रोडक्शन की सुविधा है. यह सुविधा अमेरिका तक के पास नहीं है। हालांकि भारत बायोटेक के एमडी की सफाई के बाद एक बार फिर से शशि थरूर ने ट्वीट किया और सवाल पूछे।

ये भी पढ़ें :- अभी #CoronaVaccine नहीं लगवाएंगे मध्य प्रदेश के CM Shivraj, जानिए क्यों कहा ऐसा

क्या है पूरा विवाद?

कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) को भारत में DCGI की ओर से 3 जनवरी को आपतकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के बाद इस पर सियासत भी चरम पर पहुंच गई है। पहले समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने ये कहते हुए कोरोना वैक्सीन का टीका लगाने से इनकार कर दिया कि उन्हें भाजपा के टीके पर विश्वास नहीं तो अब कांग्रेस नेताओं शशि थरूर (Shashi Tharoor) और जयराम रमेश ने कोरोना वैक्सीन पर सवाल उठा दिए हैं।

शशि थरूर ने ट्वीट कर लिखा है कि कोवैक्सीन का अब तक तीसरे चरण का ट्रायल नहीं हुआ है। अनुमित अपरिपक्व है और यह खतनाक हो सकती है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन को इसे स्पष्ट करना चाहिए। इसे पूरे ट्रायल होने तक टालना चाहिए। भारत इस बीच एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का इस्तेमाल शुरू कर सकता है।

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने भी कोवैक्सीन पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया। जयराम रमेश ने ट्वीट कर लिखा कि भारत बायोटेक प्रथम श्रेणी का उद्यम है, लेकिन यह उलझन भरा है कि करने वाली बात है कि फेज-3 ट्रायल के अंतरराष्ट्रीय मानकों को कोवैक्सीन के लिए संशोधित कर दिया गया। स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन को इसे स्पष्ट करना चाहिए।

वैक्सीन के इस्तेमाल से नपुसंक हो जाएंगे लोग

यहां यह बता दें कि मिर्जापुर से समाजवादी पार्टी के एमएलसी आशुतोष सिन्हा ने कोरोना वैक्सीन का विरोध करते हुए यहां तक कह दिया था कि ये भी संभव है कि वैक्सीन लगवाने के बाद लोग नपुंसक हो जाएं। हालांकि डीसीजीआई ने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया है।

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है