Covid-19 Update

2,67,577
मामले (हिमाचल)
2, 53, 840
मरीज ठीक हुए
3961*
मौत
40,622,709
मामले (भारत)
366,912,057
मामले (दुनिया)

हिमाचल विधानसभा में हंगामा, विपक्ष ने पहले सदन के बीच बैठ लगाए नारे, फिर किया वॉकआउट

करुणामूलक और आउट सोर्स आधार पर नौकरियों को लेकर विपक्ष ने किया वॉकआउट

हिमाचल विधानसभा में हंगामा, विपक्ष ने पहले सदन के बीच बैठ लगाए नारे, फिर किया वॉकआउट

- Advertisement -

तपोवन, धर्मशाला। हिमाचल विधानसभा (Himachal Vidhan Sabha) के शीतकालीन सत्र के आज तीसरे दिन भी सदन के अंदर जमकर हंगामा हुआ। विपक्ष ने आउससोर्स और करूणामूलक भर्तियों को लेकर सदन के अंदर जमकर हंगामा किया। जिसके बाद विपक्ष ने वॉकआउट (Walkout) कर दिया। विपक्ष ने करीब एक घंटे तक सदन से वाकआउट किया और सीएम जयराम ठाकुर भाग गए के नारे लगाए। बता दें कि जैसे ही विधानसभा की कार्रवाई दोपहर बाद 2रू00 बजे शुरू हुईए स्थगन प्रस्ताव के तहत दिए गए विषय में करुणामूलक आधारए आउट सोर्स आधार पर नियुक्तियां दी जा रही हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल विधानसभा: नाहन सैन्य क्षेत्र के नागरिकों की समस्याओं के समाधान के लिए बनेगी कमेटी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं विधायक रामलाल ठाकुर खड़े हो गए और प्वाइंट आफ आर्डर के तहत कुछ कहना चाहते थे, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने उन्हें बैठने के लिए कहा इस बीच कांग्रेस के विधायक की एक के बाद एक खड़े होने शुरू हो गए। इसी बीच नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री (Mukesh Agnihotri) ने कहा कि विधानसभा में एक नई प्रथा शुरू की गई है। जिसमें विपक्ष द्वारा लाए गए विषयों पर चर्चा नहीं करवाई जा रही। इस बीच विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने कहा 15 दिसंबर को प्रश्नकाल के दौरान इससे संबंधित प्रशन लगे हैं। जिस पर सभी विधायक अपनी बात रख सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि स्थगन प्रस्ताव के तहत तीन विषय एक साथ नहीं लाए जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल विधानसभाः फसल पकने से पहले खुलें मंडियां, किसानों को न हो नुकसान

 

 

सदन के बीच बैठ लगाए नारे

सदन के अंदर विपक्ष द्वारा दिए गए स्थगन प्रस्ताव में रामलाल ठाकुर, आशा कुमारी, सुंदर सिंह ठाकुर, विनय कुमार, विक्रमादित्य सिंह ने दोपहर बाद 12:55 पर प्रस्ताव संबंधित सूचना दी। जिसे विधानसभा के नियमों के तहत एक से अधिक विषय को स्वीकार नहीं किया जा सका। ऐसे में विपक्ष के के इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया। विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार की ओर से प्रस्ताव को निरस्त करने से गुस्साए कांग्रेस विधायकों (Congress MLA) ने नारेबाजी शुरू कर दी और कुछ देर बाद नारे लगाते हुए सदन के बीचों बीच आकर बैठ गए। इस बीच प्रश्नकाल शोर शराबे के बीच में शुरू हुआ।

एक तरफ विधानसभा में प्रश्नकाल चल रहा था तो दूसरी ओर कांग्रेस के सदस्य सदन के बीचोंबीच बैठ गए और एक के बाद एक कांग्रेसी विधायक सरकार के खिलाफ आलोचनात्मक भाषण देते रहे। सबसे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रामलाल ठाकुर ने भाषण दिया। उसके बाद कांग्रेस की वरिष्ठ नेता आशा कुमारी ने सरकार के खिलाफ भाषण दिया। उसके बाद हर्षवर्धन चौहानए फिर विक्रमादित्य सिंह ने भाषण दिया। भाषण के दौरान सदन के बीचोंबीच बैठे कांग्रेसी विधायक नारेबाजी करते रहे। कांग्रेस विधायक सरकार के खिलाफ कटाक्ष कर रहे हैं।

 

सीएम जयराम कुर्सी बचाने के साथ दिल्ली के काट रहे चक्कर

 

रामलाल ठाकुर ने कहा कि चोर दरवाजे से जयराम सरकार पांच हजार पद भर रही है। प्रदेश में 14 लाख बेरोजगारी का आंकड़ा पहुंच गया है और ये सरकार अपने चहेतों को ही नौकरी देने में लगी हैं। वहीं पुलिस जवानों की भवनाओं के साथ भी ये सरकार खिलवाड़ कर रही है। उन्होंने कहा कि इस सरकार में न्याय के बारे में सोच भी नही सकते है। सीएम जयराम अपनी कुर्सी बचाने के साथ दिल्ली के चक्कर काट रहे है। विधानसभा के सत्र को बीच मे छोड़ कर ऐसी क्या मजबूरी थी कि उन्हें जाना पड़ा और इसके बारे में सदन में जानकरी तक नही दी। उन्होंने कहा कि इन मुद्दों को लेकर सदन में कांग्रेस द्वारा स्थगन प्रस्ताव लाया गया था और चर्चा की मांग की गई लेकिन विधानसभा अध्यक्ष द्वारा चर्चा का समय नही दिया।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है