Covid-19 Update

2, 85, 012
मामले (हिमाचल)
2, 80, 818
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,138,393
मामले (भारत)
527,842,668
मामले (दुनिया)

थप्पड़ खाने से मिलेगी सॉफ्ट और ग्लोइंग स्किन, यहां मशहूर है स्लेप थेरेपी

स्लेप थेरेपी को कहा जाता है एंटी एजिंग थेरेपी

थप्पड़ खाने से मिलेगी सॉफ्ट और ग्लोइंग स्किन, यहां मशहूर है स्लेप थेरेपी

- Advertisement -

विश्वभर में सुंदरता बढ़ाने के लिए बहुत सारी चीजें की जाती है और कई नुस्खे अपनाए जाते हैं। सुदंरता बढ़ाने के लिए बाजार में बहुत सारे प्रोडक्ट भी उपलब्ध हैं। वहीं, दुनिया में एक जगह ऐसी है यहं थप्पड़ मारकर लोगों की सुंदरता बढ़ाई जाती है। इसे स्लेप थेरेपी (slap therapy) भी कहा जाता है। स्लेप थेरेपी साउथ कोरिया में बहुत ही ज्यादा पापलुर है।

ये भी पढ़ें-इन पौधों को घर के अंदर रखने के लिए ज्यादा जगह की भी नहीं पड़ती जरूरत

इस थेरेपी को एंटी एजिंग थेरेपी भी कहा जाता है। साउथ कोरिया में सैकड़ों सालों से महिलाएं अपनी सुंदरता बढ़ाने के लिए ये थेरेपी करती आ रही हैं। साउथ कोरिया में महिलाएं हर रोज अपने गालों में 50 थप्पड़ खाती हैं। लोगों का मानना है कि स्लेप थेरेपी से त्वचा में निखार आता है। स्लेप थेरेपी में गालों पर आराम-आराम से और हल्के हाथों से थप्पड़ लगाए जाते हैं। यह थेरेपी महिलाएं खुद अपने हाथों से करती हैं। महिलाएं दोनों हाथों से अपने गालों को तेज थपथपा कर यह थेरेपी करती हैं। प्राचीन काल से यह थेरेपी सिर्फ साउथ कोरिया में प्रचलित थी, लेकिन अब धीरे-धीरे अब पूरी दुनिया में यह थेरेपी फैल रही है। कहा जाता है कि इस थेरेपी के दौरान जब गालों पर हल्के थप्पड़ लगाए जाते हैं तब उस वक्त चेहरे के हर हिस्से में ब्लड का फ्लो तेज हो जाता है। जिससे चेहरे की त्वचा को साफ होने में मदद मिलती है और चेहरा ग्लो करने लगता है। महिलाओं के अलावा साउथ अफ्रीका में पुरुष भी इस थेरेपी का इस्तेमाल करते हैं। उनका मानना है कि ऐसा करने से चेहरे की त्वचा जवां रहती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है