Covid-19 Update

2,06,027
मामले (हिमाचल)
2,01,270
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,653,380
मामले (भारत)
198,295,012
मामले (दुनिया)
×

एक ऐसा रहस्यमयी जहाज जहां मिली लाशों का सच आज भी है राज

जोरदार धमाके के साथ समुद्र की गहराइयों में समा गया था जहाज

एक ऐसा रहस्यमयी जहाज जहां मिली लाशों का सच आज भी है राज

- Advertisement -

दुनिया में ऐसी कई चीजें होती हैं जिनका रहस्य अनसुलझा ही रहता है। ऐसा ही एक रहस्यमयी समुद्री जहाज (Mysterious Ship) है जिसकी अनोखी घटना आज तक अनसुलझी ही है। आज हम आपको इसी के बारे में बताने वाले हैं। ये घटना करीब 70 साल पहले की है।साल 1947 के जून महीने में उस समय मलक्का की खाड़ी में मौजूद व्यापारिक मार्ग से कई समुद्री जहाज गुजर रहे थे। इसी दौरान एक एसओएस संदेश पहुंचा कि जहाज के सभी क्रू सदस्यों की मौत हो चुकी है। ये संदेश आपातकालीन स्थिति में भेजे जाते हैं। संदेश मिलने के बाद जहाज के सिग्नल को पहचानते हुए नजदीक के सभी जहाज उस रहस्यमय जहाज की तरफ बढ़े।

यह भी पढ़ें: जीपीएस सिस्टम,मोबाइल नेटवर्क व सैटेलाइट टीवी की सेवाएं हो सकती है बाधित

इस रहस्यमय जहाज के सबसे नजदीक मर्चेंट शिप द सिल्वर स्टार (The Silver Star) था जो जल्दी से उसके पास पहुंच गया। द सिल्वर स्टार के क्रू मेंबर्स जब उस रहस्यमय जहाज पर पहुंचे, तो वो ये देखकर दंग रह गए कि हर तरफ सिर्फ लाशें ही लाशें बिखरी पड़ी थीं। कई लोगों की तो आंखें भी खुली हुई थीं। उन्हें देखकर ऐसा लग रहा था, जैसे वो किसी चीज से डरे हुए हों। सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये थी कि मरने वाले लोगों के शरीर पर किसी भी तरह के जख्म के निशान नहीं थे। उनकी मौत (Death) रहस्यमय तरीके से हुई थी। बाद में द सिल्वर स्टार के क्रू मेंबर्स जब उस रहस्यमय जहाज के बॉयलर रूम में पहुंचे तो उन्हें बहुत ज्यादा ठंड लगने लगी जबकि वहां का तापमान 100 डिग्री सेल्सियस से ऊपर था। अब यह बेहद ही हैरान करने वाली बात थी। यह सब देखने के बाद द सिल्वर स्टार के क्रू सदस्यों ने जल्दी से अपने जहाज पर जाने का फैसला किया। द सिल्वर स्टार के क्रू सदस्य अपने जहाज तक पहुंचते, उससे पहले ही उस रहस्यमय जहाज से धुआं निकलने लगा और उसमें आग लग गई। हालांकि, किसी तरह क्रू सदस्य अपने जहाज पर पहुंचे। उनके वहां पहुंचते ही उस रहस्यमय जहाज में एक जोरदार धमाका हुआ और देखते ही देखते जहाज समुद्र की गहराइयों में समा गया।


 

 

कुछ लोग इस घटना के पीछे रहस्यमय शक्ति को जिम्मेदार बताते हैं वहीं कुछ का मानना है कि वहां प्राकृतिक गैसों का एक बादल बन गया था, जिसकी वजह से जहाज के सभी क्रू सदस्य मारे गए और जहाज में भी आग लग गई। इस रहस्यमय जहाज को ‘द एस एस ओरंग मेडान’ के नाम से जाना जाता है। इस घटना के पीछे की वजह क्या थी ये तो आज तक पता नहीं चल पाया है लेकिन कई लोग इसको आज भी ‘द एस एस ओरंग मेडान’ को भूतिया जहाज के नाम से याद करते हैं। हालांकि ना मानने वाले तो आज भी इसको एक किस्सा ही मानते हैं लेकिन सच आज तक कोई नहीं जान पाया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है