Covid-19 Update

3,12, 233
मामले (हिमाचल)
3, 07, 924
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,599,466
मामले (भारत)
623,690,452
मामले (दुनिया)

इस देश की सड़कों पर जीवों का कब्जा, चलना-फिरना हुआ मुश्किल, पर ऐसा क्यों, यहां जाने इसकी वजह

कोरोना काल में केकड़ों की संख्या में हुआ इजाफा, दीवरों पर भी रेंग रहे

इस देश की सड़कों पर जीवों का कब्जा, चलना-फिरना हुआ मुश्किल, पर ऐसा क्यों, यहां जाने इसकी वजह

- Advertisement -

क्यूबा (Cuba) की सड़कों पर इन दिनों केकड़ों का कब्‍जा है। इससे सबसे ज्‍यादा प्रभावित बे ऑफ पिग्‍स (Bay Of Pigs) इलाका है। यहां इतनी बड़ी संख्‍या में केकड़े सड़कों और दीवारों पर रेंग रहे हैं कि लोगों का चलना-फिरना मुश्किल हो गया है। सड़कों, पेड़ों और दीवारों पर लाल, काले, पीले और नारंगी रंग के केकड़ों (Crabs) का कब्‍जा हो गया है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, यह पहली बार नहीं है, जब क्‍यूबा की सड़कों पर इतने केकड़े नजर आ रहे हैं। यहां हर साल ऐसा होता है, लेकिन इस बार ये समय से पहले जमीन से बाहर आ आए हैं। स्‍थानीय प्रशासन और लोग इनसे बचने की तैयारी नहीं कर पाए। नतीजा ये फैलते जा रहे हैं। इनकी संख्‍या बढ़ने की एक वजह कोरोना (Corona) महामारी भी रही है।

यह भी पढ़ें-ये है लॉकडाउन की “मस्ती”

रिपोर्ट कहती है, पिछले दो साल तक कोरोना के कारण लॉकडाउन (Lockdown) लगाया गया। इंसानी गतिविधियां बंद होने के कारण जंगल, समुद्र और सड़कों में इंसानों की आवाजाही लगभग बंद हो गई थी। इस दौरान ये बाहर आए और प्रजनन करके अपनी संख्‍या को बढ़ाया। नतीजा लैटिन देशों में इनकी आबादी में रिकॉर्ड (Record) बढ़ोतरी हुई है। तस्‍वीरों में केकड़ों के झुंड को साफ देखा जा सकता है।

बे ऑफ पिग्स ऐसा इलाका है’, जिसके एक तरफ समुद्र है। उसके किनारे-किनारे जंगल है। इन दोनों के बीच से सड़क निकलती है ।ण्यहां पिछले दो सालों ये केकड़े निश्चिंत होकर घूम रहे हैं। सड़कों पर आवागमन न होने के कारण पिछले दो साल से जब भी ये बाहर निकले तो मरे नहीं, इस तरह इनकी संख्‍या में रिकॉर्ड बढ़ोतरी हुई। अब इनकी संख्‍या इतनी ज्‍यादा है कि गाड़ि‍यों (Carriages) के नीचे दबकर ये मर रहे हैं।

इस साल ये केकड़े समय से पहले जमीन से बाहर क्‍यों निकल आए। इस सवाल के जवाब में क्यूबा के पर्यावरण मंत्रालय के वैज्ञानिको रीनाल्डो संटाना एग्विलर (Reinaldo Santana Aguilar) का कहना है, ऐसा क्‍यों हुआ वैज्ञानिक इसका पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। इनकी आबादी वाकई में कोरोना के कारण बढ़ी या किसी तरह के प्राकृतिक बदलाव के कारण ऐसा हुआए यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है