Covid-19 Update

1,42,510
मामले (हिमाचल)
1,04,355
मरीज ठीक हुए
2039
मौत
23,340,938
मामले (भारत)
160,334,125
मामले (दुनिया)
×

किसानों के समर्थन में निकाली अनोखी बारात, Mercedes छोड़कर Tractor पर सवार हुआ दूल्हा

शादी में मिली शगुन की पूरी राशि किसानों के आंदोलन में देंगे दूल्हा-दुल्हन

किसानों के समर्थन में निकाली अनोखी बारात, Mercedes छोड़कर Tractor पर सवार हुआ दूल्हा

- Advertisement -

करनाल। किसानों के प्रदर्शन को काफी लोग अपने तरीके से सपोर्ट कर रहे हैं। कोई सम्मान व पुरस्कार लौटा रहा है तो कोई लोगों को उनके साथ दिल्ली चलने को कह रहा है। इसका असर हरियाणा (Haryana) में शादियों पर भी दिख रहा है। हरियाणा-दिल्ली बार्डर पर डटे किसानों के समर्थन में यहां अनूठा कदम उठाया गया। सेक्टर छह में बारात लेकर निकला दूल्हा घर में खड़ी मर्सिडीज कार छोड़ ट्रैक्टर पर सवार होकर आगे बढ़ा। इसके बाद बारातियों ने भी ट्रैक्टरों (Tractor) पर सवार होकर जय जवान जय किसान के नारे लगाए। दूल्हे ने ऐलान किया कि वह पत्‍नी के साथ जल्द ही किसानों के बीच पहुंचेगा। यही नहीं, दूल्हा-दुल्हन ने अपनी शादी में मिली शगुन की पूरी राशि भी किसानों के आंदोलन में सहायता स्वरूप देने की बात कही है।


यह भी पढ़ें: बादल-ढींढसा के बाद अब #Punjab के कई साहित्यकारों-खिलाड़ियों ने भी लौटाए पुरस्कार

सतबीर ढुल मूलत: कैथल के गांव पाई के निवासी हैं। बीते कुछ वर्षों से वह अपनी पत्‍नी सुशीला और पूरे परिवार के साथ करनाल के सेक्टर छह में रह रहे हैं। सतबीर और सुशीला के बेटे सुमित बीटेक करने के बाद जयपुर में अपना बिजनेस (Business) कर रहे हैं, जबकि उनकी वधू लिपिका अहलावत नोएडा में एक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्य करती हैं। सुशीला के भाई सुरेंद्र नरवाल ने बताया कि उनके परिवार में यह वाकई अनूठी शादी है। जब सुमित और लिपिका को पता चला कि कई राज्यों के किसान इन दिनों अपनी मांगों को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर डटे हैं तो उन्होंने अपने-अपने परिवारों की खेतीबाड़ी से जुड़ी पृष्ठभूमि के चलते अनूठे ढंग से शादी करने का निर्णय लिया।


रात को सेक्टर छह स्थित आवास से बाकायदा चार ट्रैक्टरों पर बारात नूरमहल बैंक्वेट हॉल के लिए रवाना हुई। खुद सुमित ने ट्रैक्टर का स्टेयरिंग थामकर इसे आगे बढ़ाया। सुमित ने बताया कि उन्होंने व लिपिका ने तय किया है कि जल्द ही एक दिन आंदोलनरत किसानों के बीच पहुंचेंगे और उन्हें अपने शादी में मिलने वाले शगुन की राशि भी सहायता स्वरूप सौंपेंगे। दोनों का मानना है कि किसान देश का अन्नदाता है और यदि वह संकट में है तो सबको उसकी मदद के लिए आगे आना चाहिए। बारात के दौरान ट्रैक्टरों पर भारतीय किसान यूनियन के झंडे लगे नजर आए।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है