Covid-19 Update

1,98,361
मामले (हिमाचल)
1,90,296
मरीज ठीक हुए
3,369
मौत
29,439,989
मामले (भारत)
176,417,357
मामले (दुनिया)
×

ये है 100 साल का दुर्लभ लसियाड़े का पेड़, गांव के हर घर में इसकी सब्जी की पहुंच

पेड़ कांगड़ा जिला के नगरोटा बगवां उपमंडल के तहत आते धलूं के कुफरी मैदान में

ये है 100 साल का दुर्लभ लसियाड़े का पेड़, गांव के हर घर में इसकी सब्जी की पहुंच

- Advertisement -

यह कोई बोधि वृक्ष नहीं, जहां भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था, लेकिन इस पेड़ की कहानी भी बड़ी विचित्र है, जिसके बारे में शायद ही आप जानते होंगे। हैरानी होती है कि एक सदी से भी बुजुर्ग इस पेड़ का तना दशकों पहले खोखला हो चुका है, लेकिन चमत्कारिक रूप से यह पेड़ न केवल सांसे ले रहा है, बल्कि हर साल इस पेड़ के फल मौसमी सब्जी के तौर पर कई घरों के भोजन का हिस्सा बनती है। लसियाड़े का यह पेड़ कांगड़ा जिला के नगरोटा बगवां उपमंडल के तहत आते धलूं डाकघर की पटियालकर पंचायत के कुफरी मैदान में स्थित है। गांव में कम ही घर होंगे, जहां इस पेड़ के फलों की कभी सब्जी न बनी हो।

यह भी पढ़ें:शराब पीकर बैठे Driving Seat पर तो स्टार्ट ही नहीं होगी गाड़ी,  घरवालों को भी चला जाएगा मैसेज

मार्च में लौट आती है हरियाली

साल भर सूखा सा दिखने वाला यह पेड़ हर साल मार्च का महीना आते आते हरा- भरा दिखने लगता है और अप्रैल के आते इसकी टहनियों पर पत्ते और छोटे- छोटे अंकुर( जिन्हें स्थानीय भाषा में कुर कहते हैं) आने शुरू हो जाते हैं। मई में अंकुर हरे रंग के छोटे फल का रूप धारण कर लेते हैं और जून आखिर और जुलाई के शुरू तक फल पकने शुरू हो जाते हैं। लसियाड़े के अंकुर से लेकर कच्चे और पक्के फल को कांगड़ा जनपद में मौसमी सब्जी के तौर पर खाया जाता है और इसका आचार भी बनाया जाता है।


पेड़ से जुड़े प्रसंग

इस गांव से संबंध रखने वाले शिक्षक एवं साहित्यकार भूपेन्द्र जम्वाल भुप्पी इस पेड़ से जुड़ा एक बताते हैं कि एक दौर वह भी था जब धलूं स्कूल के शिक्षक भी इस पेड़ के लसियाड़े खाने का शौक रखते थे और स्टूडेंट्स अपने टीचर्स के लिए इस पेड़ के लसियाड़े तोड़ कर लाने को अपनी शान समझते थे। नेशनल मेडिसनल प्लांट बोर्ड के रिजनल फेस्लिटेशन सेंटर जोगेंद्रनगर के उपनिदेशक डॉ. सौरभ शर्मा के प्रयास से इस पेड़ की कलमें काट कर नए पौधे तैयार करने का सफल प्रयास हो चुका है। वे कहते हैं कि लसियाड़े के अधिकतर पेड़ बूढ़े हो चुके हैं। ऐसे में जरूरत है कि लसियाड़े के नए पौधे रोपे जाएं।

साभार-विनोद भावुक, वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है