Covid-19 Update

2,27,354
मामले (हिमाचल)
2,22,669
मरीज ठीक हुए
3,833
मौत
34,606,541
मामले (भारत)
264,096,760
मामले (दुनिया)

टौर के पत्तों से बनी पत्तल में खाने के फायदे हैं कई फायदे, नहीं होगी कई बीमारियां

ग्रामीणों के लिए बनी आय का साधन

टौर के पत्तों से बनी पत्तल में खाने के फायदे हैं कई फायदे, नहीं होगी कई बीमारियां

- Advertisement -

मंडी। धाम (Dham) का नाम सुनते ही हमारे और आपके जुबान पर पानी आ जाता है। हिमाचल (Himachal) के धाम के जायके का अलग ही पहचान है। मंडी जिला के प्रसिद्ध सामूहिक भोज ‘धाम’ की राजा-महाराजाओं के जमाने से लेकर आधुनिक हिमाचल तक अपनी अलग ही पहचान कायम है। वहीं, धाम के दौरान लजीज व्यंजन परोसने के लिए उपयोग में लाई जाने वाली हरी पत्तल का महत्व सबसे ऊपर है। धार्मिक और सांस्कृतिक इतिहास को समेटे देवभूमि हिमाचल के कई इलाकों में यह परंपरा आज भी जारी है। टौर से बनने वाली इस पत्तल में सामाजिक समरसता के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण को भी बढ़ावा मिलता है। पहाड़ की यह पत्तल टौर नामक बेल के पत्ते से बनती है। यह बेल मध्यम ऊंचाई वाले मंडी, कांगड़ा और हमीरपुर जिले में ही पाई जाती है। तो जानते है कि टौर से बनी पत्तल के क्या-क्या हैं फायदे और इसे कैसे बनाया जाता है।

यह भी पढ़ें:देश का एक अनोखा पेड़ जिसकी सुरक्षा में 24 घंटे तैनात रहते हैं सुरक्षा गार्ड

पर्यावरण को संरक्षित करने में महत्वपूर्ण

वर्तमान में प्लास्टिक से बने ढोने व पत्तल पर्यावरण के लिए घातक साबित हो रहे हैं। विवाह-शादियों और खास समारोहों में हजारों लोगों को पत्तल पर ही खाना परोसा जाता है। पत्तल पहाड़ की ऐसी थाली है, इसमें खाना खाने का मजा ही कुछ और है। जंगल में टौर नामक बेल में लगे पत्तों की यह पत्तल पर्यावरण मित्र थाली भी है। पत्तल के बिना धाम का स्वाद तो फीका रह जाता है।

पत्तल का कारोबार

मंडी के द्रंग विधानसभा क्षेत्र के गांव बिहनधार में लोग पिछले कई वर्षों से पत्तल का कारोबार करते हैं। इस गांव के लोग जंगलों से टौर की बेल से पत्ते तोड़कर और बांस के तिनकों से पत्तों को जोड़कर पत्तल का निर्माण करते हैं। इस प्रकार से पत्तल बनाकर ग्रामीणों द्वारा मंडी शहर में लोगों को बेचने के लिए गांधी चौक पर निश्चित स्थान पीपल के थड़े पर पहुंचाया जाता है।

कैसे होता है पत्तल का निर्माण

पत्तल निर्माण को लेकर ग्रामीण सुबह जंगल की ओर निकल जाते हैं। टौर के झुरमुट से पत्तों समेत छोटी-छोटी टहनियों को निकाल लेते हैं। इसका बोझ पीठ पर उठाकर कई किलोमीटर की दूरी पैदल तय करके घर लाया जाता है। फिर पत्तों को अलग करके बांस की तीली से उन्हें जोड़ा जाता है। एक पत्तल के लिए पांच से सात पत्तों को जोड़ा जाता है। इन पत्तलों के पचास और एक सौ की तहें बनाई जाती है। पत्तलें तैयार होने के बाद उन्हें व्यापारी और निर्माता द्वारा लोगों को बेचा जाता है। एक अनुमान के अनुसार पत्तलों का यह कारोबार दो से तीन करोड़ रुपए सालाना तक पहुंच जाता है।

यह भी पढ़ें: सोशल मीडिया पर तैर रहे इस वीडियो को देख आप अपना सिर पकड़ लेंगे

कोरोना संक्रमण ने बढ़ाई मुश्किलें

कोरोना संक्रमण को लेकर लगाए गए लॉकडाउन के दौरान पत्तल निर्माताओं भारी समस्याओं का सामना करना पड़ा था। सरकार द्वारा धार्मिक और समाजिक आयोजन पर रोक लगा देने के कारण सामूहिक भोज भी बंद कर दिए गए। इससे पत्तल की ब्रिक्री बंद रुक गई। अपनी अजीविका के लिए इस व्यवसाय पर निर्भर लोगों पर इस बुरा प्रभाव पड़ा। अब अनलॉक होने के बाद बड़े आयोजन शुरू होने से पत्तल निर्माताओं ने राहत की सांस ली है। पत्तल निर्माताओं ने सरकार से राहत पैकेज की मांग भी की है।

टौर की पत्तल की क्या है खूबियां

टौर की पत्तल को लेकर कृषि विज्ञान केंद्र मंडी के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. पंकज सूद ने कहा कि टौर की बेल कचनार परिवार से ही संबंधित है और इसमें औषधीय गुण को लेकर भी कई तत्व पाए जाते हैं। इससे भूख बढ़ाने में भी सहायता मिलती है। एक तरफ से मुलायम होने वाले टौर के पत्ते को नैपकिन के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। टौर के पत्ते शांतिदायक व लसदार होते हैं। यही वजह है इनसे बनी पत्तलों पर भोजन खाने का आनंद मिलता है। अन्य पेड़ों के पत्तों की तरह टौर के पत्ते भी गड्ढे में डालने से दो से तीन दिन के अंदर गल सड़ जाते हैं। लोग इसका उपयोग खेतों में खाद के रूप में करते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है