Covid-19 Update

2,05,061
मामले (हिमाचल)
2,00,704
मरीज ठीक हुए
3,498
मौत
31,396,300
मामले (भारत)
194,663,924
मामले (दुनिया)
×

वीरभद्र सिंह की पार्थिव देह पहुंची पद्म पैलेस, कल शाही सम्मान से होगा अंतिम संस्कार

जोबनी बाग मोक्षधाम में हजारों लोग देंगे अंतिम विदाई

वीरभद्र सिंह की पार्थिव देह पहुंची पद्म पैलेस, कल शाही सम्मान से होगा अंतिम संस्कार

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल के पूर्व सीएम दिवंगत वीरभद्र सिंह (Virbhadra Singh) की पार्थिव देह शुक्रवार शाम रामपुर में उनके महल पद्म पैलेस (Padma Palace) में पहुंच गई। वीरभद्र सिंह की पार्थिव देह को जब उनके गृहक्षेत्र रामपुर लाया जा रहा था तो शिमला से लेकर रामपुर तक हजारों लोग अंतिम दर्शन को ठियोग, मतियाना, नारकंडा, कुमारसैन, सैंज, बिथल, नीरथ, भद्राश, दत्तनगर, नोगली और रामपुर में हजारों लोग सड़कों पर उतर आए। पार्थिव देह रामपुर पहुंचते हीआसमान राजा साब अमर रहे, जब तब सूरज चांद रहेगा राजा तेरा नाम रहेगा जैसे नारों से गूंज रहा था। हजारों लोग उनके पुत्र विक्रमादित्य सिंह को ढांढस बंधा रहे थे।

 


 

इस दौरान नम आंखों से बेटे विक्रमादित्य सिंह ने सभी को हाथ जोड़ते नजर आए। सैकड़ों वाहनों का काफिला उनके साथ राज दरबार परिसर पहुंचा। वीरभद्र सिंह का कल शनिवार को दोपहर बाद रामपुर (Rampur) के जोबनी बाग में शाही सम्मान (Royal Honor) के साथ दाह संस्कार (funeral) किया जाएगा। इससे पहले उनकी पार्थिव देह पद्म पैलेस महल में अंतिम दर्शनों के लिए रखी जाएगी। उसके बाद करीब तीन बजे राज दरबार परिसर से मुख्य बाजार होते हुए मोक्षधाम जोबनी बाग तक शवयात्रा निकाली जाएगी। शवयात्रा के दौरान पौराणिक परंपराओं का निर्वहन किया जाएगा। परंपरा है कि राजा के मरणोपरांत उल्टे बाजे की धुन पर उन्हें श्मशानघाट तक पहुंचाया जाता है। जोबनी बाग में विक्रमादित्य सिंह अपने पिता वीरभद्र सिंह की पार्थिव देह को मुखाग्रि देंगे। उससे पहले विक्रमादित्य का राजतिलक भी किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: अंतिम यात्रा पर वीरभद्र सिंह : पार्थिव शरीर लेकर परिजन रामपुर रवाना

 

 

बता दें कि रामपुर का जोबनी बाग श्मशान घाट में राज परिवार से संबंध रखने वाले राजा और रानियों के लिए विशेष स्थान है। यहां वर्षों पहले मृत्यु प्राप्त कर चुके राजा और रानियों के शिलालेख (inscription) और चित्र आज भी मौजूद हैं। अब तक मृत्यु को प्राप्त हुए बुशहर रियासत के राजाओं और रानियों के यहां स्मृति चिह्न आज भी मौजूद हैं। शिलालेख में उनके चित्र और मृत्यु की तिथि अंकित है। शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं और मजदूरों ने श्मशानघाट की सफाई की। कल यहां दशकों तक प्रदेश के लाखों लोगों के दिलों पर राज करने वाले पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह को मोक्ष धाम (Moksha Dham) से अंतिम विदाई दी जाएगी। इस दौरान हजारों की संख्या में लोग मौजूद रहेंगे। ऐसा अनुमान है कि वीरभद्र सिंह की शनिवार को निकलने वाली शवयात्रा में 20 हजार से ज्यादा लोग पहुंच सकते हैं। उनकी अंत्येष्टी को लेकर प्रशासन और पुलिस ने पुख्ता बंदोबस्त कर लिए हैं।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है