Covid-19 Update

2, 85, 044
मामले (हिमाचल)
2, 80, 865
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,148,500
मामले (भारत)
531,112,840
मामले (दुनिया)

हिमाचलः सरकारी स्कूलों में अब बच्चे करेंगे ब्रेकफास्ट, दूध-अंडे से होंगे स्ट्रांग

प्रोजेक्ट की मंजूरी के लिए शिक्षा विभाग केंद्र को भेजा प्रस्ताव

हिमाचलः सरकारी स्कूलों में अब बच्चे करेंगे ब्रेकफास्ट, दूध-अंडे से होंगे स्ट्रांग

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल (Himachal) के सरकारी स्कूलों में बच्चों को अब दूध, अंडा और ब्रेड भी मिलेगा। बच्चों को मिड डे मील के साथ अब ब्रेकफास्ट (Breakfast) देने की भी तैयार की जा रही है। इसके शिक्षा विभाग (Education Departmen) ने एक बार फिर केंद्र से इस प्रोजेक्ट की मंजूरी के लिए यह प्रस्ताव भेजने का विचार किया है। 16 फरवरी को केंद्र के साथ समग्र शिक्षा और प्रारंभिक शिक्ष विभाग की प्रोजेक्ट अप्रुवल बोर्ड की बैठक होनी है। इस बैठक में स्कूलों (Schools)से जूड़े विभिन्न प्रस्ताव पर चर्चा होनी है और इसके साथ ही इन प्रोजेक्ट के लिए बजट भी मिलना है।

यह भी पढ़ें: काजा में सीएम जयराम ठाकुर ने चीन को दिखाईं आंखें, क्या बोेले, जाने यहां

ऐसे में प्रारंभिक शिक्षा विभाग भी अब दोबारा इस प्रोजेक्ट को केंद्र को मंजूरी के लिए भेजेगा। पिछले साल भी विभाग ने पीएबी के साथ इस प्रोजेक्ट (Project) को चर्चा के लिए लाया था, लेकिन कोविड (Covid) के बीच यह प्रोजेक्ट लटक गया और इसे मंजूरी नहीं मिल सकी, लेकिन इस बार फिर से ये प्रस्ताव तैयार किया गया है। इसमें बच्चों को स्कूलों में मिलने वाले लंच के साथ सुबह का नाश्ता भी दिया जाना है। इसमें पौष्टिक आहार और हरी सब्जियों के साथ सुबह के नाश्ते में दूध, अंडा (Egg) और ब्रेड देने की योजना तैयार की गई है। इसके साथ ही स्कूलों में प्री-प्राइमरी कक्षएं जो पहले से चल रही है उसके इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए भी नया बजट मिलने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें:धर्मशाला के दौरे पर आ रहे सीएम जयराम ठाकुर, करोड़ों की देंगे सौगातें

समग्र शिक्षा विभाग भी इन दिनों पीएबी की बैठक के लिए विभिन्न तरह के प्लान पर तैयार कर रहा है। यही कारण है कि विभागों में लंबित कामों को निपटाने के लिए स्टाफ (Staff) को भी सौ फीसदी कैपेसेटी से बुलाया जा रहा है। इसमें स्कूलों में नए वोकेशनल कोर्स शुरू होने हैं, जिसके लिए केंद्र की ओर से नए साल के लिए बजट भी जारी किया जा रहा है। स्कूलों की ओर से भी रिक्ववायरमेंट मांगी गई है कि किस एरिया में कौन से नए कोर्स ऐसे हैं जिन्हें वोकेशनल एजुकेशन (Vocational Education) तौर पर शुरू किया जा सकता है। ऐसे में इस बार फरवरी माह में होने वाली ये बैठक काफी अहम मानी जा रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है