Covid-19 Update

2,21,203
मामले (हिमाचल)
2,16,124
मरीज ठीक हुए
3,701
मौत
34,043,758
मामले (भारत)
240,610,733
मामले (दुनिया)

विदेशी राजनयिकों ने कश्मीर निहारा, भारत ने पाकिस्तान का दुष्प्रचार नकारा

विदेशी राजनयिकों ने कश्मीर निहारा, भारत ने पाकिस्तान का दुष्प्रचार नकारा

- Advertisement -

जम्मू। हाल ही में विदेशी राजनयिकों (Foreign Diplomats) का दल जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) दौरे पर आया था। आपको बता दें कि 18 महीने में जम्मू-कश्मीर में विदेशी राजनयिकों के दल की यह तीसरी यात्रा थी। हालांकि विपक्ष के कुछ लोगों ने धारा-370 को निष्प्रभावी और 35A को जम्मू कश्मीर हटाने और फिर विदेशी राजनयिकों को कश्मीर (Foreign Diplomats Kashmir Visit) बुलाने की आलोचना की थी, लेकिन दरअसल केंद्र सरकार (Central Government) इस रणनीति के सहारा पाकिस्तान को एक्सपोज करने के लिए कर रही है। पाकिस्तान लगातार कहता रहता है कि कश्मीर (Kashmir) में लोगों पर जुल्म ढहाए जा रहे हैं और मानवाधिकारों का उल्लंघन (Human Rights Violations) हो रहा है। ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा 18 महीने में तीसरी बार विदेशी राजनियकों का कश्मीर दौरा बताता है कि भारत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पूरी तरह से पाकिस्तान (Pakistan) को घेरना चाहता है।

यह भी पढ़ें: NASA के मिशन में अहम भूमिका निभाने वाली डॉ स्वाति की बिंदी बनी आकर्षण का केंद्र ,मुरीद हुए लोग

आपको बता दें कि हाल ही में 24 देशों के राजनयिकों ने जम्मू-कश्मीर का दौरा किया था। राजनयिकों के इस दल ने जम्मू-कश्मीर में विकास कार्यों व जमीनी हालातों का जायजा लिया है। अब विदेश मंत्रालय की तरफ से भी इस बाबत बयान जारी किया गया है। भारत के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि विदेशी राजनयिकों ने श्रीनगर स्थित चिनार कॉर्प्स हेडक्वार्टर का दौरा किया। विदेशी राजनयिकों के दल को जम्मू-कश्मीर की मौजूदा सुरक्षा स्थितियों के बारे में जानकारी दी गई है। इसके जम्मू-कश्मीर में बाहरी खतरों के बारे में भी उन्हें अवगत करवाया गया है। ऐसे में पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार हनन को लेकर चलाए जा रहे दुष्प्रचार अभियान की भी पोल खुल गई है। विदेशी राजनयिकों को दौर में बताया गया कि पाकिस्तान कैसे सीमा पार से जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है।

क्या बोले इरीट्रिया के राजदूत

विदेशी राजनयिकों के दल में शामिल इरीट्रिया के राजदूत एलेम शाव्ये (Eritrean Ambassador Elem Shawye) ने भी इस दौरे के दौरान जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा से मुलाकात की। इस मुलाकात में इरीट्रिया के राजदूत एलेम शाव्ये ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर में बदलाव दिखाई देता है। एलेम शाव्ये ने अपने दौरे के बाद कहा था कि जम्मू-कश्मीर का दौरा आंखें खोलने वाला रहा। इसके साथ ही केंद्र शासित प्रदेश से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर समझ का विकास हुआ।

इसके अलावा यूरोपीय संघ ने भी कहा है कि उम्मीद है कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव करवाने सहित अन्य कदम जल्द उठाए जाएंगे। इस बारे में यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिकों के दो दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरे के बाद ईयू प्रवक्ता ने यह बयान दिया। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के दौरे पर कई विदेशी राजनयिक पहुंचे थे। इसमें यूरोपीय संघ, पुर्तगाल, नीदरलैंड, बेल्जियम, स्पेन, फ्रांस, मलेशिया, ब्राजील, इटली, फिनलैंड, बांग्लादेश, क्यूबा, चिली, स्वीडन, सेनेगल, ताजिकिस्तान, मलावी, इरीट्रिया, किर्गिजिस्तान, आयरलैंड, घाना, एस्टोनिया, बोलीविया और आइवरी कोस्ट शामिल थे।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है